Friday, November 24, 2017
User Rating: / 1
PoorBest 

rising sun

राजा देवगुरू बृहस्पति, मंत्री दण्डाधिकारी शनिदेव
एक सौम्य, दूसरा क्रूर, परिणामस्वरूप
साल भर राजनैतिक असिथरता के योग

ज्योतिष शास्त्र ग्रहों की प्रवृतित एवं प्रकृति अनुसार शुभाशुभ घटनाओं का आकलन करता है। देवगुरू बृहस्पति नवग्रहों में सर्वाधिक शुभ ग्रह माने गए हैं, वहीं शनि को क्रूर दण्डाधिकारी के रूप में अशुभ ग्रहों की श्रेणी में रखा गया है। नवसंवतसर 'पराभव में बृहस्पति देवता को राजा का पद एवं शनि को मंत्री पद प्राप्त है। शुभाशुभ के मेल के कारण वर्ष भर राजनैतिक असिथरता एवं सत्ता परिवर्तन का योग, साथ ही सत्ताधारी राजनेताओं को आश्चर्यजनक परिणाम प्रस्तुत करेगा। ग्रहों के बलाबल अनुसार विपक्षी दलों की शकित में असाधारण वृद्धि होगी।

navsamvat

ज्योतिष गणना के अनुसार संवत का प्रवेश सिंह लग्न एवं पंचग्रही योग लग्न से अष्टम भाव में बन रहा है। दैत्यगुरू शुक्राचार्य मीन राशि में उच्चस्थ हैं, जिसके परिणाम स्वरूप विपक्षी पार्टियों को नवसंवत्सर का प्रवेश नवसंजीवनी प्रदान कर रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के लिए छायाग्रह केतु की महादशा में शुक्र की अन्तर्दशा राजनैतिक संकट, पार्टी एवं गठबंधन में बिखराव, नए-नए महाघोटालों के रहस्योदघाटन आदि के संकेत दे रही है। कांग्रेस की कुण्डली में तुला राशि में सिथत शुक्र गुरू के साथ एवं नीच राशि का शनि, चन्द्रमा से युक्त होने के कारण विकराल राजनैतिक सुनामी का संकेत दे रही है। इसके ठीक विपरीत भारतीय जनता पार्टी की कुण्डली में शनि, राहु का योग पार्टी संगठन एवं कोर कमेटी में विशेष परिवर्तन लाएगा। भारतीय राजनीति में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव, राष्ट्रीय जनता दल के लालू प्रसाद यादव एवं कांग्रेस के कोहिनूर राहुल गांधी के लिए नवसंवतसर सावधानी एवं संयम से काम लेने के संकेत दे रहा है। देश की धड़कन नरेन्द्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह, लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज, बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती व हिन्दुस्तान के दिल की धड़कन अन्ना हजारे का राजनैतिक वर्चस्व बढ़ेगा और इनका जलवा नवसंवतसर में जनता के सामने होगा। वर्ष का मंत्री शनि होने से राजनेताओं एवं प्रशासनिक अधिकारियों का व्यवहार सामान्य लोगों के प्रति कठोर एवं स्वार्थपरक रहेगा।

राशियों पर नवसंवत्सर प्रभाव - मेष- धन लाभ, सुख वृषभ- सम्मान व सुखों में वृद्धि मिथुन- धार्मिक यात्राएं, व्यापार में वृद्धि कर्क- अचानक लाभ,शरीर कष्ट सिंह- परेशानियां दूर होंगी, दामप्त्य सुख कन्या- बिगड़े काम बनेंगे तुला- संतान की उन्नति, स्वास्थ्य में गड़बड़ी वृशिचक-संघर्ष से सफलता, संबंधों में सुधार धनु - धन लाभ, सुख प्रापित मकर- समय सामान्य, व्यापार में लाभ कुंभ- सुख वृद्धि बिगड़े काम बनेंगे मीन- धन लाभ, कायोर्ं में बाधा 

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

Astrology

Who's Online

We have 1881 guests online
 

Visits Counter

750957 since 1st march 2012