Wednesday, November 22, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

 

कहते है दुनिया में मानव कि सेवा करना मानवता का सबसे बड़ा मूल मंत्र है और इसी का संकल्प लेकर हर साल सैकड़ों कि संख्या में नागरिक सुरक्षा कोर  वालिंटियर तीर्थराज प्रयाग में लगने वाले माघ और कुम्भ मेले निशुल्क श्रम दान करते है ।

हर साल ये शहर पूरी दुनिया कि सांस्कृतिक और आध्यात्मिक राजधानी बन जाती है और लाखों कि तादात में आस्थावान श्रद्धालु पुण्य लाभ और मोक्ष कि कामना लिए यहाँ आते है । 
प्रयाग में हर साल लगने वाले माघ मेले को पूरी दुनिया में उसकी आध्यात्मिक रौनक के लिए जाना जाता है और इसी के दर्शन के लिए लाखों लोग संगम कि त्रिवेणी में खिचे चले आते है लेकिन इतने बड़े मेले को निपटाने के लिए पूरा प्रशाशन दिन रात एक करता है लेकिन केवल अगर ये कहा जाये कि मेले को सफलता पूर्वक संपन्न करवाने का श्रेय उसी को दिया जाये तो ये कहना गलत होगा । प्रशाशन के साथ कंधे से कन्धा मिलकर इस धार्मिक काम को अंजाम देते है नागरिक सुरक्षा कोर के सैकड़ों कार्यकर्ता । फिर चाहे वो शहर का रेलवे स्टेशन हो,बस अड्डा हो ट्रैफिक कंट्रोल के लिए मुख्य चौराहे हो ये फिर मेले में श्रद्धालुओं के लिए बनाये गए स्नान घाट हर जगह इसके कार्यकता आपकी सहायता के लिए मौजूद मिलेंगे । अपना फर्ज निभाने के लिए इसके वालेंटियर  महीनों पहले से इसकी तैयारी करना शुरू कर देते है । निस्वार्थ अपने काम को अंजाम देते इन लोगों का कहना है कि वो शुल्क लिए इस काम को बरसों से करते आये है और इससे उनको आत्मिक शांति तो मिलती है ही साथ ही अपने  फर्ज को भी वो बखूबी पूरा करने कि कोशिश करते है जिसकी उन्होंने शपथ ली थी । 

सिविल डीफेन्स का एक ही मकसद होता है की किसी को  तकलीफ न हो,मेले में लोग एक दूसरे से बिछड़े नहीं और यहाँ से स्नान करने के बाद लोग आराम से अपने घर जा सके इसके लिए प्रशाशन के साथ साथ इस बड़ी जिम्मेदारी को अगर  कोई दिन रात एक करके पूरा कराता है तो वो होते सिविल डिफेन्स के वालेंटियर

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

Magh Mela 2014

Who's Online

We have 1235 guests online
 

Visits Counter

750263 since 1st march 2012