Thursday, November 23, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

niranjini-1
इलाहाबाद। शुक्रवार को निरंजनी अखाड़े की धूमधाम से पेशवाई हुई। कई अखाड़ों के बाद निकली निरंजनी की पेशवाई बेहद निराली रही क्योंकि इसमें साधु संतो के हाथों में राइफलें भी नजर आई। जिससे उन्होंने कई बार हवाई फायरिंग भी की। इस प्रकार का नजारा किसी अखाड़े की पेशवाई में पहली बार देखने को मिला। बाघंबरी गददी से जब पेशवाई निकली तो सड़क के दोनों तरफ लोगों की भीड़ इकटठा हो गई। हर कोई इस भव्य दृश्य को अपने निगाहों और कैमरों में कैद करने को आतुर था।

 

कोई सजी धजी हाथियों के झुंड को निहारने में जुटा रहा तो किसी का ध्यान घोड़े पर बैठे नागा साधुओं ने आकर्षित किया। फूल माला लपेटे कुछ नागा संत हर हर महादेव की जयध्वनि करते हुए पैदल भी चल रहे थे। पेशवाई के दौरान संतों ने तलवार बाजी तथा लाठी भांजने की कलाओं का भी प्रदर्शन किया। 

niranjini-2

पेशवाई निकलने से पहले निरंजनी अखाड़े के संतों ने भगवान कार्तिकेय स्वामी का पूजन किया। फिर मालाओं से सजी पालकी में भगवान कार्तिकेय की भव्य पालकी निकाली गई। बैंड बाजे की धुन पर साधु संन्यासी झूमते नाचते चल रहे थे। पेशवाई में सबसे आगे बाघंबरी मठ के महंत नरेंद्र गिरि, जूना अखाड़ा के हरिगिरि पैदल ही उत्साह वर्णन करते हुए चल रहे थे। ट्रैक्टर ट्राली को फूल मालाओं से सजाकर रथ का रूप दिया गया था तथा उन पर चांदी के हौदे रखे हुए थे। इन हौदों पर सुमेश्वरानंद गिरि, निरंजनी पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर पुण्यानंद गिरि, विधानंद गिरि तथा हरि ओम गिरि विधमान थे। विभिन्न मार्गों से होते हुए पेशवाई सेक्टर चार सिथत अखाड़ा के शिविर पहुंची जहां पर भगवान कार्तिकेय की पालकी को मध्य में स्थापित कर पूजन करने के बाद चढ़ावा चढ़ाया गया।

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

Magh Mela 2014

Who's Online

We have 3344 guests online
 

Visits Counter

750451 since 1st march 2012