Sunday, November 19, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

b l joshi

इलाहाबाद में हो रहा कुंभ मेला कई मामले में नायाब और अदभूत नजर आ रहा है। एक ओर जहां देश विदेश के साधू संत मोक्ष की प्रापित के लिए संगम क्षेत्र में प्रवास कर रहे हैं वहीं इसी कुंभ में कई सामाजिक सरोकारों को लेकर आंदोलन की शुरूआत भी की जा रही है। इसी कड़ी में संगम के अरैल तट पर की गई है एक अनोखी पहल, गंगा नदी की स्वच्छता को लेकर। जिसमें इलाहाबाद के 35 स्कूलों के छात्रों ने हिस्सा
लिया।

उक्त मौके पर महामहिम राज्यपाल श्री बी एल जोशी सपतिनक विशेष रूप से यहां आए हुए थे, उन्होंने इस अभियान की औपचारिक शुरूआत करते हुए गंगा की स्वच्छता के लिए खुद संगम में स्नान भी किया। इसके बाद महामहिम ने संगम क्षेत्र में गंगा जी की स्वच्छता और निर्मलता के लिए विशेष पूजन भी किया। इस दौरान उनकी धर्मपत्नी श्रीमती संतोष जोशी भी मौजूद रहीं। संगम में स्नान करने के बाद महामहिम का काफिला सीधे परमार्थ निकेतन पहुंचा, जहां गंगा की स्वच्छता और पर्यावरण संरक्षण के लिए एक कार्यक्रम का आयोजन स्वामी चिदानंद मुनि की अगुवाई में किया जा रहा था।

आश्रम पहुंच कर महामहिम श्री राज्यपाल ने गंगा एक्शन परिवार और परमार्थ निकेतन द्वारा आयोजित पर्यावरण परेड का अवलोकन किया। बच्चों के हाथों में विभिन्न प्रकार के प्रेरणादायी स्लोगन एवं नारों से पूरा संगम क्षेत्र गुंजायमान था। महामहिम राज्यपाल श्री बी. एल. जोशी के पंडाल में पहुँचते ही बच्चों ने तालियाँ बजाकर उनका स्वागत किया। महामहिम राज्यपाल ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का आगाज किया। इस दौरान परमार्थ निकेतन के ऋषि कुमारों और बच्चों ने सस्वर मंत्रोच्चार किया और मां गंगा की स्तुति की। इसके बाद महामहिम राज्यपाल ने वहां मौजूद छात्रों और सभी गणमान्य लोगों को संबोधित करते हुए संकल्प दिलवाया।

महामहिम ने कहा कि पर्यावरण एवं नदियों के प्रति छात्र-छात्राओं में इतनी तन्मयता और उत्साह आज मैंने पहली बार देखा है। मुझे आशा है कि गंगा और यमुना के प्रति हमारी नई पीढ़ी में उमड़ा यह समर्पण और कार्य के प्रति अनूठा उत्साह अब भारत की नदियों को प्रदूषित नहीं होने देगा। श्री जोशी ने कहा कि हमारी पीढ़ी 'जाने वाली है और आप बच्चों की पीढ़ी 'आने वाली है। स्वामी चिदानन्द मुनि के प्रयासों की सराहना करते हुए राज्यपाल ने आशा व्यक्त की कि दुनिया के अन्य देशों की तरह अब भारत की नदियां स्वच्छ व निर्मल होंगी, सदानीरा होंगी। राज्यपाल ने नौजवानों, नन्हें-मुन्नों सहित सभी का आहवान किया कि वह केवल अपनी भावनाएं, श्रद्धा और फूल ही गंगा में डालें, न कि गन्दगी।

परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती 'मुनि जी ने महामहिम को ग्रीन राज्यपाल की उपाधि से सम्बोधित करते हुए कहा कि उत्तराखण्ड की सेवा के बाद अब उत्तर प्रदेष को आगे बढ़ा रहे हैं। हम उनके प्रतिनिधित्व में वर्तमान पीढ़ी को आगे बढ़ता देखते हैं। स्वामी चिदानंद मुनि ने इस दौरान कहा कि ये एक शुरूआत है जिसे अपने अंजाम तक हर हाल में पहुंचाना है। इसीलिए बच्चों को इस अभियान से 
जोड़ने की पहल उनके आश्रम ने कि है ताकि गंगा सफाई का यह अभियान गली-मोहल्ले तक पहुँच सके।

परमार्थ निकेतन में आयोजित किए गए इस आयोजन में बच्चों को ज्यादा से ज्यादा संख्या में जोड़ने के लिए कई तरह की प्रतियोगिताएं भी आयोजित की गई थी। राज्यपाल ने गंगा एक्शन परिवार के झोला आन्दोलन के तहत सबसे ज्यादा पर्यावरण झोले बनाने वाले स्कूलों और सर्वश्रेष्ठ स्लोगन लिखने वाले विधार्थियों को पुरस्कृत किया। पालिथीन के विकल्प के रूप में 6,182 झोले बनाने वाले टैगोर पबिलक स्कूल को प्रथम तथा राजकीय इण्टर कालेज को द्वितीय पुरस्कार मिला। बच्चों ने ''एक दो तीन-प्रदूषण करो क्लीन, डोन्ट यूज पालीथिन-मेक इणिडया क्लीन एण्ड ग्रीन, नीर नहीं गंगाजल है-इससे चलता हर पल है, जन-जन को पहुंचायें आज यही सन्देश-बची रहे ये गंगा मैया बचा रहे ये देश जैसे स्लोगन लिखने वाले विधार्थियों को भी महामहिम ने सम्मानित किया।

उक्त अवसर पर आयुक्त इलाहाबाद श्री देवेष चतुर्वेदी, आईजी श्री आलोक शर्मा, डीएम राजशेखर, मेलाधिकारी श्री मणि प्रसाद मिश्र ने महामहिम श्री राज्यपाल को संगम का विशाल चित्र भेंट किया। साथ ही श्री चतुर्वेदी ने उन्हें मेला क्षेत्र से संबंधित व्यवस्थाओं आदि की जानकारी दी। समापन अवसर पर प्रयाग संगम आरती समिति के सरदार अजीत सिंह व निजामुददीन ने श्री जोशी को स्वर्ण मनिदर की प्रतिमा भेंट की।

मंच पर सभी धर्मों के धर्माचार्यों के साथ-साथ उत्तराखण्ड के शहरी विकास मन्त्री श्री प्रीतम सिंह पवांर, जल आंदोलन के पुरोधा जल पुरुष श्री राजेन्द्र सिंह, जसिटस ए0 पी0 शाही, जसिटस भारती सप्रू, जसिटस गिरिधर मालवीय, मेयर श्रीमती अभिलाषा गुप्ता, एसएसपी श्री मोहित अग्रवाल, एसएसपी कुम्भ मेला श्री आर0के0एस0 राठौर एवं जिला विधालय निरीक्षक श्री महेन्द्र कुमार सिंह सहित कई गण्यमान व्यकित मौजूद थे।

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

Magh Mela 2014

Who's Online

We have 1539 guests online
 

Visits Counter

749180 since 1st march 2012