Friday, November 17, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

Sequence-1-01000604

उत्तर प्रदेश सरकार ने इलाहाबाद जंक्शन रेलवे स्टेशन पर रविवार की शाम को हुए हादसे पर गहरा शोक व्यक्ति किया है। उत्तर प्रदेश के पंचायतराज मंत्री श्री बलराम यादव ने आज एक पत्रकार वार्ता में कहा कि इलाहाबाद रेलवे स्टेशन पर जो घटना घटी वह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है। लोग संगम पर स्नान कर मोक्ष की कामना के साथ महाकुंभ में आए थे, लेकिन हादसे में उनकी दुखद मौत हो गई। श्रद्धालुओं की मौत पर हमें गहरा दुःख है। हादसे में घायल हुए लोगों को बेहतर इलाज उपलब्ध कराना प्रदेश सरकार की शीर्ष प्राथमिकता है। सभी श्रद्धालुओं को सुरक्षित वापस उनके गंतव्य तक भेजने के लिए राज्य सरकार सभी समुचित इंतजाम कर रही है। सरकार ने पूरे प्रदेश से बसें मंगाकर श्रद्धालुओं को उनके गंतव्य भेजना शुरू कर दिया है।

 

 बलराम यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव के निर्देश पर वह और परिवहन मंत्री श्री दुर्गा प्रसाद यादव, मुख्य सचिव जावेद उस्मानी, पुलिस महानिदेशक अंबरीश चन्द्र शर्मा के साथ इलाहाबाद आए हैं। उन्होंने कहा कि मौनी अमावस्या के मौके पर अनुमान से ज्यादा भीड़ जुटने की वजह से हादसा हुआ। हादसे की जांच के लिए राजस्व परिषद के अध्यक्ष की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया गया है। जांच कमेटी को एक महीने के अंदर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि जांच में जो भी लोग दोषी पाए जाएंगे उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

snapshot204

श्री बलराम यादव ने कहा कि जांच कमेटी को यह पता लगाने के निर्देश दिए गए हैं कि हादसा क्यों हुआ, हादसे की वजह क्या है और इसके लिए कौन-कौन से लोग जिम्मेदार हैं। जांच कमेटी को यह भी निर्देश दिए गए हैं कि भविष्य में इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति न हो, इसके लिए वह सुझाव भी दे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार मृतकों के परिजनों को 5 लाख रूपए और घायलों को एक लाख रूपए की आर्थिक मदद देने का काम प्रशासन ने शुरू कर दिया है।

snapshot224

मुख्य सचिव जावेद उस्मानी ने बताया कि इलाहाबाद रेलवे स्टेशन पर हादसे में रविवार की शाम कुल 36 लोगों की मौत हुई है। जिसमें 7 पुरुष और 29 महिलाएं (एक बच्ची) शामिल है। श्री जावेद उस्मानी ने बताया कि हादसे में 39 लोग घायल हुए हैं। जिसमें 3 लोगों की हालत अत्यंत गंभीर है। स्वरूपरानी अस्पताल में 33, जे.एन. सप्रू अस्पताल में 5 और मोतीलाल नेहरू अस्पताल में एक घायल को भर्ती कराया गया है। मुख्य सचिव ने बताया कि 24 शव स्वरूपरानी अस्पताल पहुंच चुके हैं। 14 शवों की पहचान अभी तक नहीं हो सकी है। 22 शवों का पोस्टम‚र्टम कराया जा चुका है। 19 लोगों के शवों को उनके निवास भेजा चुका है।

श्री जावेद उस्मानी ने हादसे पर गहरी संवेदना जताते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश के हर शख्स को श्रद्धालुओं की मौत पर गहरा दुख है। हमें श्रद्धालुओं की मौत का दिल से गम है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने महाकुंभ मेले में अच्छी व्यवस्थाएं और सुरक्षा के समुचित प्रबंध किए हैं। लेकिन इतना बड़ा हादसा होने का मतलब है कि कहीं न कहीं चूक जरूर हुई है। अगर सारी व्यवस्थाएं ठीक ढंग से क्रियानिवत होती तो इतनी बड़ी दुर्घटना नहीं होती। उन्होंने कहा कि आम आदमी से लेकर साधु-संतों और महंतों ने मेले में किए गए इंतजामों पर खुशी जताई थी। मेले में की गई व्यवस्थाओं से सभी लोग पूरी तरह संतुष्ट थे।

मुख्य सचिव जावेद उस्मानी ने बताया कि राज्य सरकार के निर्देश पर प्रशासन रेलवे के साथ बेहतर तालमेल बिठाकर काम कर रहा था। दुर्घटना का कारण क्या था, रेलिंग का टूटना या फिर भारी भीड़..., इसकी विस्तृत जानकारी जांच कमेटी की रिपोर्ट मिलने के बाद ही पता चल सकेगी। श्री जावेद उस्मानी ने बताया कि 15 फरवरी को बसंत पंचमी के पावन अवसर पर महाकुंभ में होने वाले स्नान के लिए श्रद्धालुओं को पूरी सुरक्षा उपलब्ध कराई जाएगी।

पुलिस महानिदेशक अंबरीश चन्द्र शर्मा ने बताया कि मौनी अमावस्या के मौके पर मेला क्षेत्र में हुई 2 लोगों की मौत के कारणों का पता लगाने के लिए अलग से एक जांच कमेटी बनाई जाएगी। जांच रिपोर्ट मिलने पर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

पत्रकार वार्ता में उत्तर मध्य रेलवे के महाप्रबंधक आलोक जौहरी और रेलवे बोर्ड के वरिष्ठ अधिकारी देवी प्रसाद पांडेय भी मौजूद थे। श्री आलोक जौहरी ने बताया कि मौनी अमावस्या के मौके पर रेलवे ने जितने श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद की थी उससे कहीं बहुत ज्यादा श्रद्धालु आए। रेलवे ने श्रद्धालुओं को उनके गंतव्य तक पहुंचाने के लिए जो प्रबंध किए थे वो कम पड़ गए।

इससे पहले मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक ने इलाहाबाद रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक, चार, प्लेटफार्म नंबर छह और फुट ओवर बि्रज पर जाकर रेलवे अधिकारियों के साथ मौका-मुआयना किया और हादसे के बारे में जानकारी ली। मुख्य सचिव और डीजीपी ने रेलवे कंट्रोल रूम का भी निरीक्षण किया। मुख्य सचिव और डीजीपी ने इलाहाबाद पहुंचने के तुरंत बाद पुलिस लाइन्स के सभागार में प्रशासन और पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियो के साथ बैठक कर घटना की विस्तार से जानकारी ली।

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

Magh Mela 2014

Who's Online

We have 2128 guests online
 

Visits Counter

748451 since 1st march 2012