Tuesday, November 21, 2017
User Rating: / 1
PoorBest 

raghuram

वित्त मंत्रालय के मुख्य आर्थिक सलाहकार रघुराम जी. राजन को भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) का नया गवर्नर नियुक्त किया गया है। वह रिजर्व बैंक के 23वें गवर्नर होंगे। राजन मौजूदा गवर्नर डी. सुब्बाराव का स्थान लेंगे। सुब्बाराव का रिजर्व बैंक गवर्नर के तौर पर पांच साल का कार्यकाल चार सितम्बर, 2013 को पूरा हो रहा है। मंगलवार को जारी एक सरकारी बयान के अनुसार प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने रघुराम राजन की तीन साल के लिए रिजर्व बैंक गवर्नर के पद पर नियुक्ति को मंजूरी दे दी। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के मुख्य अर्थशास्त्री राजन को पिछले साल अगस्त में वित्त मंत्रालय में मुख्य आर्थिक सलाहकार नियुक्त किया गया। वित्तीय क्षेत्र के सुधारों पर तैयार रिपोर्ट में भी राजन शामिल थे। यह रपट योजना आयोग ने तैयार कराई है।

व्यक्तित्व : राजन को अपने खुले और स्पष्ट विचारों के लिए जाने जाने वाले राजन प्रधानमंत्री के मानद आर्थिक सलाहकार भी रहे हैं। वर्ष 2008 के वैश्विक वित्तीय संकट की भविष्यवाणी करने के लिए भी उन्हें जाना जाता है। इस सटीक भविष्यवाणी के बाद राजन का कद वैश्विक स्तर पर काफी बढ़ गया है।

शिक्षा : आईटी दिल्ली से बीटेक, आईआईएम अहदाबाद से एमबीए किया। मैस्साचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नालॉजी, शिकागो से एमआईटी (पीएचडी)की डिग्री हासिल की। मुख्य आर्थिक सलाहकार बनने से पहले वह शिकागो यूनिवर्सिटी के बूथ स्कूल ऑफ बिजनेस में प्रोफेसर थे।

और क्या है खास : राजन र्वल्ड बैंक, अमेरिका के फेडरल रिजर्व बोर्ड और स्वीडिश पार्लियामेंट्री कमीशन में अतिथि प्रोफेसर भी रहे हैं। इन्होंने सेविंग कैपिटलिजम फ्राम द कैपिटलिस्ट और फाल्ट लाइंस : हाउ हिडन फ्रेक्र्चस स्टिल थ्रीटेन द र्वल्ड इकोनॉमी नाम से दो किताबें भी लिखी हैं।

क्या है चुनौतियां : रिजर्व बैंक के नए गवर्नर के रूप में राजन को गिरते रुपए को थामने के लिए कड़ी मशक्कत करनी होगी। इसके साथ ही उन्हें मौजूदा वैश्विक आर्थिक अनिश्चितता के इस दौर में सुस्त पड़ती आर्थिक वृद्धि और खुदरा क्षेत्र की बढ़ती मुद्रास्फीति से भी लड़ना होगा।

  • राजन भारतीय रिजर्व बैंक के 23वें गवर्नर के रूप में संभालेंगे कमान
  • तीन साल का होगा राजन का कार्यकाल, सुब्बाराव का लेंगे स्थान
  • 4 सितम्बर, 2013 को पूरा हो रहा है सुब्बाराव का कार्यकाल
  • अभी वित्त मंत्रालय में मुख्य आर्थिक सलाहकार के रूप में तैनात हैं राजन
  • गवर्नर की दौड़ में सुमित्रा चौधरी व अरविंद मायाराम भी थे शामिल
  • विशेषज्ञों को उम्मीद, अर्थव्यवस्था में सुधार के ठोस उपाय करेंगे राजन

 

आरबीआई गवर्नर का कार्यकाल

भारतीय रिजर्व बैंक का गठन बि्रटिशकाल में एक अप्रैल, 1935 को हुआ। शुरूआत में इसके 100 प्रमोटर थे जो सभी निजी क्षेत्र से थे। आजादी के बाद 1949 में रिजर्व बैंक का राष्ट्रीयकरण किया गया।

1. सर ओसबोर्ने सिमथ      01.04.1935 से 30.06.1937

2. सर जेम्स ब्रेड टेलर       01.07.1937 से 17.02.1943

3. सर सीडी देशमुख          11.08.1943 से 30.06.1949

4. सर बेनेगल रामा राउ     01.07.1949 से 14.01.1957

5. केजी अंबेगांवकर          14.01.1957 से 28.02.1957

6. एचवीआर अयंगर          01.03.1957 से 29.02.1962

7. पीसी भअटाचार्य           01.03.1962 से 30.06.1967

8. एलके झा                  01.07.1967 से 03.05.1970

9. बीएन अदरकर            04.05.1970 से 15.06.1970

10. एस. जगन्नाथन         16.06.1970 से 19.05.1975

11. एनसी सेन गुप्ता        19.05.1975 से 19.08.1975

12. केआर पुरी               20.08.1975 से 02.05.1977

13. एम. नरसिंहम           03.05.1977 से 30.11.1977

14. आर्इजी पटेल            01.12.1977 से 15.09.1982

15. मनमोहन सिंह          16.09.1982 से 14.01.1985

16. ए. घोष                  15.01.1985 से 04.02.1985

17. आरएन मल्होत्रा         04.02.1985 से 22.12.1990

18. एस. वेंकटरमण         22.12.1990 से 21.12.1992

19. सी. रंगराजन            22.12.1992 से 21.11.1997

20. बिमल जालान          22.11.1997 से 06.09.2003

21. वार्इवी रेडडी            06.09.2003 से 05.09.2008

22. डी सुब्बाराव            05.09.2008 से 04.09.2013

स्रोत: राष्ट्रीय सहारा

Comments 

 
#2 Kailash Chand chou 2017-09-05 14:52
62ppy
Quote
 
 
#1 sachin pawar 2016-10-30 20:33
:roll:
Quote
 

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

Miscellaneous

Who's Online

We have 1995 guests online
 

Visits Counter

749686 since 1st march 2012