Tuesday, November 21, 2017
User Rating: / 10
PoorBest 

flat

जमीन हमेशा से व्यक्ति की मूल जरूरत रही है। बढ़ती आबादी ने इसके महत्व को और भी बढ़ा दिया है। प्राचीन काल में भी जमीन में धन लगाने वालों को उनके निवेश का बेहतर रिटर्न मिलता था और आज भी यह सिलसिला जारी है। आप भी जमीन में निवेश करके बेहतर रिटर्न हासिल कर सकते हैं लेकिन जमीन खरीदते वक्त कुछ बातों का ध्यान अवश्य रखना चाहिए

        जमीन में पैसा लगाना हमेशा से ही फायदे का सौदा रहा है। आज से 80 साल पहले एक किसान अपनी फसल बेचने के बाद कुछ पैसा इसलिए बचाकर रखता था ताकि इस रकम से अपनी कृषि योग्य जमीन में कुछ इजाफा कर सके और बाद में अगर अचानक पैसों की जरूरत आ पड़े तो इस जमीन के थोड़े से हिस्से को बेचकर अपनी धन संबंधी जरूरत को पूरा कर सके।

मौजूदा समय में भी जमीन निवेशकों को बेहतर रिटर्न दे रही लेकिन इसका स्वरूप अब बदल गया। पहले जमीन की खरीदारी बीघों और एकड़ों में होती थी लेकिन जमीन के दाम इतने ज्यादा हो गए हैं कि आज यह खरीदारी वर्गफुट या वर्गगज में हो रही है। जमीन की कीमतों में तेजी का आलम यह है कि पहले 20 हजार रुपए प्रति बीघा जमीन मिल जाती थी वहीं अब 20 हजार रुपए में सिर्फ कुछ गज जमीन की मिल रही है। मौजूदा दौर में जमीन का आकार भले ही छोटा हो गया हो लेकिन इसमें निवेश की जाने वाली रकम और इस पर मिलने वाला रिटर्न पहले की तुलना में कई गुना जरूर बढ़ गया है।

कैसे करें निवेश

        जमीन में निवेश करना मुश्किल नहीं है। मान लीजिए आप निवेश की दृष्टि से कोई आवासीय प्लाट या फ्लैट खरीदना चाहते हैं तो इसके लिए आपको चार बातों का खास ध्यान रखना होगा। इनमें पहला लोकेशन, दूसरा यातायात के साधन तीसरा सुरक्षा और चौथा संपत्ति का कानूनी पहलू।

लोकेशन

        सबसे पहले आपको फ्लैट या प्लाट की लोकेशन देखनी होगी यानी जिस जगह पर फ्लैट बना है वह जगह निवेश की दृष्टि से कैसी है, आसपास बाजार है या रिहायशी क्षेत्र, सड़क कितनी चौड़ी है कार इत्यादि आ सकती है या नहीं, फ्लैट मुख्य मार्ग पर है या किसी गली मुहल्ले के संपर्क मार्ग पर, गली मुहल्ले में कुछ कुछ किराना दुकानें, होटल इत्यादि हैं या नहीं क्योंकि छोटी-छोटी चीज खरीदने के लिए शापिंग माल जाना संभव नहीं हो सकेगा। यह भी देखना होगा कि फ्लैट जिस स्थान पर बना है वहां जलभराव इत्यादि की समस्या तो नहीं है। फ्लैट नया बना है या पुराना हो चुका है। किसी महानगर में फ्लैट या प्लाट खरीदने के लिए लोकेशन के लिहाज से बस स्टेशन, मेट्रो स्टेशन, रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट, मुख्य बाजार, फ्लाईओवर, अंडर पास, प्रदर्शनी स्थल, इंस्टीटय़ूशनल एरिया, एतिहासिक स्थल और नदी के आसपास के क्षेत्रों को निवेश की दृष्टि से उपयुक्त माना जाता है।

यातायात के साधन

        लोकेशन के बाद सबसे ज्यादा महत्व इस बात का होता है कि जहां पर आप फ्लैट या प्लाट खरीद रहे हैं वहां आना जाना कितना सुगम है ? यातायात के साधन हैं या नहीं। मेट्रो ट्रेन, सिटी बस, टेम्पो-टैक्सी आदि की सुविधा है या नहीं। रात्रि में कितने बजे तक यह सेवाएं मिलती हैं। अगर सार्वजनिक यातायात सेवाएं सारी रात मिलती हैं तो ऐसे इलाके फ्लैट या प्लाट खरीदने के लिए उपयुक्त साबित हो सकते हैं।

सुरक्षा

        संपत्ति खरीदने से पहले यह जरूर देखें कि जहां और जो आप संपत्ति खरीद रहे हैं वह संपत्ति और वह क्षेत्र सुरक्षा की दृष्टि से कैसा है। फ्लैट इस प्रकार तो नहीं बना है कि उसमें कोई और व्यक्ति चोरी छिपे प्रवेश कर ले अथवा फ्लैट किसी ऐसे सन्नाटे इलाके में तो नहीं है जहां अपराध के खतरे ज्यादा होते हैं। पुलिस स्टेशन वहां से कितनी दूर है और आसपास कोई झोपड़पट्टी वाली आबाद तो नहीं है। अक्सर देखा जाता है कि अपार्टमेंट के आसपास बसने वाली झोपड़पट्टी की आबादी में अराजक तत्व अपनी जगह बना लेते हैं और अपराधों को यहीं से छिपकर अंजाम देते हैं।

कानूनी पहलू

        किसी संपत्ति के कानूनी पहलू की जानकारी करने का तात्पर्य इस बात से है कि यह जरूर जानकारी कर लें कि संपत्ति को लेकर कोई विवाद तो नहीं है, इसमें कोई साझीदार तो नहीं है। संपत्ति पर कुछ बकाया तो नहीं है या संपत्ति कहीं गिरवी तो नहीं रखी हुई है। इन सारी जानकारी के लिए संपत्ति के मूल प्रपत्रों को स्वयं देखें और इसको अपने वकील के जरिये चेक करवा लें।

साभार: राष्ट्रीय सहारा

Comments 

 
#1 n.s rathore 2016-01-08 16:47
पलोट का रजीसटरी सही गलत का केसे पता लगता है
कोनसे आफिस मे केसे पता करे ।
धन्यवाद
Quote
 

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

Miscellaneous

Who's Online

We have 1843 guests online
 

Visits Counter

749686 since 1st march 2012