Tuesday, November 21, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

credit card

बड़ी संख्या में क्रेडिट कार्ड यूजर्स को इसका इस्तेमाल करने के बारे में पूरी जानकारी नहीं होती। जरा सी लापरवाही के कारण उन्हें ब्याज और पेनाल्टी के रूप में बड़ी रकम चुकानी पड़ती है। यदि थोड़े से सचेत रहें तो इसके जरिए सालभर में अच्छी खासी रकम की बचत कर सकते हैं

        कुछ समय पहले तक किसी विशेष अवसर पर खरीदारी करने की योजना बनाने से पूर्व घर में मोटी नकदी का इंतजाम करना पड़ता था। इससे बड़ी चिंता यह रहती थी कि काम पूरा होने तक इस रकम की सुरक्षा कैसे की जाए? दिनदहाड़े लूटपाट की बढ़ती घटनाओं के कारण यह समस्या और भी जटिल हो जाती है। हालांकि ग्रामीण क्षेत्रों में यह संकट अब भी बरकरार है लेकिन शहरों में इस समस्या से किसी हद तक मुक्ति मिल गई है।

दरअसल बाजार में क्रेडिट कार्ड के बढ़ते चलन ने लोगों को कई तरह की चिंताओं से मुक्ति दिला दी है। प्लास्टिक मनी की बढ़ती उपयोगिता के कारण खासकर युवा वर्ग के लिए पर्स में एक से अधिक क्रेडिट कार्ड रखना सिंबल बन गया है। हालांकि क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल के एवज में कुछ शुल्क चुकाने पड़ते हैं। यदि एक सीमा में रहकर इस्तेमाल किया जाए तो आड़े वक्त में क्रेडिट कार्ड बड़ा मददगार साबित होता है। सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसके जरिए करीब डेढ़ महीने तक की उधारी पर खरीदारी कर सकते हैं। खास बात यह है इसका कोई ब्याज नहीं देना पड़ता लेकिन देय तिथि के बाद भुगतान करने पर कार्ड जारी करने वाली कंपनियां भारी-भरकम ब्याज के साथ-साथ पेनाल्टी भी वसूलती हैं। यदि थोड़ी सी एहतियात बरती जाए तो क्रेडिट कार्ड के जरिए अच्छी-खासी रकम की बचत कर सकते हैं।

उपयोगिता को समझें

        दरअसल क्रेडिट कार्ड का उपयोग करने वाले ज्यादातर लोगों को यह नहीं पता होता है कि उनका कार्ड कैसे काम करता है, इसका इस्तेमाल करने पर कब और कितना शुल्क देना होता है। इनमें से बड़ी संख्या में लोग कार्ड की उपयोगिता को भी नहीं समझते। इस तरह के लोग कार्ड पर पेनाल्टी और शुल्क के रूप में हर साल काफी पैसे बेवजह खर्च कर देते हैं। इससे बचने के लिए क्रेडिट कार्ड की खरीदारी पर लगने वाले शुल्क, ब्याज और समय पर भुगतान न करने पर लगने वाली पेनाल्टी के बारे में बारीकी से जानकारी हासिल कर लें। यदि आप ऐसा करते हैं तो निश्चित रूप से हर साल अच्छी खासी रकम की बचत कर सकते हैं।

फिजूलखर्ची से बचें

        खासकर बड़े शहरों में मॉल और बड़े-बड़े शोरूम में क्रेडिट कार्ड के जरिए खरीदारी का चलन तेजी से बढ़ रहा है। हालांकि क्रेडिट कार्ड से खरीदारी करने में कोई बुराई नहीं लेकिन यह काम दायरे में रहकर किया जाए। आमतौर पर देखा जाता है कि मॉल में खरीदारी करते समय लोग ऐसी वस्तुओं को भी अपनी शापिंग ट्राली में डाल लेते हैं जिनकी उनको कोई खास जरूरत नहीं होती। इस एवज में काफी रकम फिजूल में खर्च हो जाती है। इससे बचने का आसान तरीका यह है कि मॉल में शापिंग के लिए जाने से पहले सामान की एक लिस्ट बना लें। यदि बच्चों के साथ जा रहे हैं तो उन्हें पहले से ही समझा दें कि उन्हें क्या खरीदना और क्या नहीं। शापिंग के दौरान अपनी इच्छा पर काबू रखें। माल के आकर्षण की चकाचौंध में यह कतई नहीं भूलें कि हम आज जो खरीदारी कर रहे हैं, कल उसका बिल भी चुकाना पड़ेगा।

समय पर करें भुगतान

        क्रेडिट कार्ड कंपनियां हर महीने बिल जारी करने के बाद ग्राहक को भुगतान के लिए 15 दिन तक का समय देती हैं। आपके लिए बेहतर रहेगा कि कभी भी अंतिम तिथि का इंतजार न करें। बिल जारी होने के तुरंत बाद भुगतान कर दें। यदि आपके बिल भुगतान की अंतिम तिथि 20 अगस्त है और आप 18 अगस्त को बैंक में चेक जमा कर रहे हैं। यदि 20 तारीख तक चेक क्लीयर नहीं हुआ तो आपको ब्याज के साथ-साथ पेनाल्टी का भी भुगतान करना होगा। आपके लिए हर माह मिलने वाले बिल में कार्ड जारी करने वाली कंपनी न्यूनतम भुगतान का विकल्प भी देती हैं। इस आफर को कतई स्वीकार न करें। क्योंकि क्रेडिट के बकाया पर कंपनियां सालाना 40 फीसद तक का ब्याज वसूलती हैं। यदि पेनाल्टी को भी जोड़ लिया जाए तो यह ब्याज सालाना 60 फीसद तक बनता है। ऐसे में मासिक बिल का समय से पहले ही भुगतान कर दें।

साभार: राष्ट्रीय सहारा

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

Miscellaneous

Who's Online

We have 1881 guests online
 

Visits Counter

749686 since 1st march 2012