Friday, November 24, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

cold in allahabad 1

इलाहाबाद। ठंडक का कहर जारी है। पिछले 48 घंटों ने ठंडी हवाओं और गलन ने आम जनजीवन अस्त व्यस्त कर दिया है। बीते शुक्रवार को अधिकतम तापमान 15 और न्यूनतम 2.2 डिग्री सेलिसयस दर्ज किया गया। इससे जाड़े का पिछले दस सालों को रिकार्ड टूट गया। अचानक बढ़ी ठंड से मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ। कल लगभग 50 लोग अस्पताल में भर्ती हुए।

इलाहाबाद में इससे पहले जनवरी 2003 में रात का तापमान 0 डिग्री से नीचे चला गया था। उस समय घर के पाइपलाइनों में बर्फ जम गई थी। नालों को पानी भी जम गया था। तेज गलन के साथ दिन भर चली हवाओं ने लोगों को हिला दिया। सड़कों पर भी रौनक कम ही रही। सड़कों के किनारे जगह जगह पर लोग आग तापते दिखे। सुबह से शाम लोग घरों में कैद रहे। स्कूलों और आफिसों में उपसिथती कम दर्ज की गई। गर्म कपड़े बेअसर ही दिखे। जानकारों के मुताबिक एक सप्ताह तक ऐसी ही ठंड पड़ेगी।
cold-in-allahabad-2
साल के पहले दिन खुली धूप के कारण सर्दी का असर कुछ कम था लेकिन धीरे-धीरे सर्दी का रूप बदल गया। अब यह सर्दी जानलेवा हो गई है। बीमार ही नहीं स्वस्थ्य लोगों के लिए भी यह सर्दी खतरनाक है। सौ फीसदी की नमी बड़ी बीमारी के संकेत दे रहीहै। चिकित्सकों को कहना है कि नमी की वजह से हडिडयों के बीच की गर्मी कम होने लगती है। इस वजह से जोड़ों के दर्द कंधे, कमर और पीठ में दर्द से तकलीफ की समस्या बढ़ रही है। बुजुर्गों को सर्दी में खास ख्याल रखना होगा। मेडिकल कालेज के डाक्टर अशोक त्रिपाठी की सलाह है कि मार्निंग वाक पर न निकलें। दो पहिया वाहन चलाते समय नाक कान मुंह ढंक कर निकलें।

ठंडक का आलम यह है कि कुंभ मेला क्षेत्र में भी घूमने वाले साधु संत अपनी कुटिया में ही अलाव के सामने बैठे रहे। शाम सात बजते ही मेला क्षेत्र में सन्नाटा पसर गया। केवल कुछ लोगों का झुंड आस-पास की चाय की दुकानों के पास नजर आया। कुंभ नगरी के केन्द्रीय अस्पताल और बीस बेड के तीन अस्पतालों में ठंड से पीडि़त तीन दर्जन से भी ज्यादा लोग इलाज के लिए पहुंचे।

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

Miscellaneous

Who's Online

We have 2641 guests online
 

Visits Counter

750933 since 1st march 2012