Friday, November 24, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

  


नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संयुक्त राष्ट्र महासभा में भाषण को लेकर भारत में काफी उत्सुकता थी। अपनी भाषण शैली के लिए मशहूर मोदी यूएन महासभा में लड़खड़ाते हुए नजर आए। करीब 12 साल बाद यूएन महासभा में हिंदी में भाषण दिया गया, लेकिन इसमें उच्चारण और कई अन्य तरह की गलतियां सामने आईं। इन पांच गलतियों के कारण मोदी का भाषण विरोधियों की आलोचनाओं का शिकार हो सकता है।   
 
गलती नंबर एक 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाषण की शुरुआत में ही संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष के नाम का गलत उच्चारण किया। उन्होंने सैम कुटेसा (Sam Kutesa) को सैम कुरेसा बोल दिया। 
 
गलती नंबर दो 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महासभा में भाषण के दौरान 69वें सत्र का जिक्र किया तो अंग्रेजी और हिंदी मिलाकर बोल गए। उन्होंने 69वें सत्र को 'सिक्सटी नाइंथवें' सत्र कहकर महासभा को संबोधित किया।  
 
गलती नंबर तीन 
मोदी ने देश की आबादी का जिक्र करते हुए कहा कि भारत वन प्वाइंट ट्वेंटी फाइव (1.25) बिलियन लोगों का देश है। यानी दशमलव के बाद के अंकों को भी मोदी एक साथ ही पढ़ गए, जबकि यह वन प्वाइंट टू फाइव (1.25) बोला जाता है। इसे बोलने के दौरान मोदी थोड़ा लड़खड़ाते हुए भी दिखे। 
 
 
गलती नंबर चार 
मोदी भाषण के दौरान कई शब्दों के उच्चारण में गलती करते हुए भी नजर आए। प्रकृति को उन्होंने दो बार 'प्रकुर्ति' बोला। समुद्र को समिद्र कहा और समृद्धि को समुर्द्धी कहा। मोदी सम्मान को सन्मान बोल गए। 
 
15 के बजाय 35 मिनट तक बोलते रहे 
संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करने के लिए किसी राष्ट्र के प्रतिनिधि को 15 मिनट का समय दिया जाता है, लेकिन भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी 35 मिनट तक भाषण देते रहे। 

साभार: दैनिक भास्कर

 

 

 

Miscellaneous

Who's Online

We have 2926 guests online
 

Visits Counter

750934 since 1st march 2012