Wednesday, February 21, 2018
User Rating: / 0
PoorBest 

  


पुणे। केंद्रीय परिवाहन मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता नितिन गडकरी ने चुनाव से पहले महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की है। गडकरी ने पुणे की एक रैली में बोलते हुए कहा,' पृथ्वीराज चव्हाण सरपंच बनने के लिए लायक भी नहीं हैं, कांग्रेस ने महाराष्ट्र को बदहाली करने के लिए ही उन्हें दिल्ली से भेजा है।' गडकरी पुणे के पिंपरी-चिंचवड़ में पार्टी उम्मीदवार लक्ष्ण जगताप के समर्थन में एक चुनावी रैली को संबोधित कर रहे थे। 
 
आचारसंहिता से पहले निपटाई कई फाइलें
 
पुणे के मतदाताओं को संबोधित करते हुए गडकरी ने कहा कि शरद पवार जैसे नेता पृथ्वीराज चव्हाण को लकवा ग्रस्त मुख्यमंत्री कहते थे यह एकदम सही है। लेकिन चुनाव में हार के डर से उनका लकवा चुनाव से पहले खत्म हो गया था और चुनाव आचार संहिता से पहले कई पेंडिंग फाइलों पर फटाफट हस्ताक्षर किए। लेकिन पुणे मेट्रो का सपना बीजेपी ही पूरा करने वाली है। 
 
विश्व सुंदरी जैसी है एनसीपी
 
गडकरी ने एनसीपी पर हमला बोलते हुए कहा कि, 'एनसीपी पार्टी एक विश्व सुंदरी के समान है। यह सुंदरी यहां-वहां आंख लड़ा कर हसंती है हर किसी को लगता है कि वो मेरी तरफ देखकर मुस्कुरा रही है। बिजली समस्या को लेकर बोलते हुए उन्होंने कहा शरद पवार खुद को किसानों के नेता कहते हैं, लेकिन उनकी वजह से ही किसानों को रात में लालटेन लेकर घूमने की नौबत आई है।
 
अघाड़ी सरकार के कार्यकाल में महाराष्ट्र बैकफुट पर 
 
नितिन गडकरी ने कहा कि अघाड़ी सरकार के 15 साल के कार्यकाल में महाराष्ट्र इतना पिछड़ गया कि यह पहले स्थान से 6वें स्थान पर पहुंच गया है। किसानी, बिजली, सिंचाई, उद्योग, रोजगार आदि के लिए सरकार ने कुछ नहीं किया। पैसे तो खूब खर्च किए लेकिन जनता को सुविधाएं नहीं मिली।
 
सांप्रदायिकता का जहर फैलाने का काम कर रही है कांग्रेस और एनसीपी 
 

गडकरी ने आगे कहा कि देश में बीजेपी की सरकार सत्ता में आने से कांग्रेस और एनसीपी आग बबूला हो गई है। इसलिए अब दोनों पार्टियां मुस्लिम समाज में सांप्रदायिकता का जहर फैलाने का काम कर रही है। हमारी सरकार ने पिछले 100 दिनों में मुस्लिम समाज के विरोध में एक भी निर्णय नहीं लिया है। बीजेपी को जाति, धर्मों के नाम पर राजनीति नहीं करनी है। पार्टी का सपना है कि देश के हर नागरिक को सामाजिक, आर्थिक न्याय देकर सुखी और समृद्ध भारत का निर्माण करना है। लेकिन यह तभी संभव है जब यह देश कांग्रेस मुक्त होगा।

साभार: दैनिक भास्कर

 

 

 

Miscellaneous

Who's Online

We have 4104 guests online
 

Visits Counter

781724 since 1st march 2012