Wednesday, November 22, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 


temp below 0 degree 1temp below 0 degree 2

इलाहाबाद। प्रदेश में पिछले 15 दिनों से पड़ रही कड़ाके की ठंड ने अब तक के सभी रिकार्ड तोड़ दिए। कहर बरपा रही कड़ाके की सर्दी ने अब जमाव बिंदु की ओर बढ़ चली है। लगातार लुढ़कते पारे ने जन जीवन अस्त व्यस्त कर दिया है। दिन भर अलाव तापने के बाद भी कोई राहत नहीं है। जिन इलाकों में धूप भी निकली तो ठंडी तेज हवाएं नश्तर सी चुभती रहीं।

प्रदेश का सबसे ठंडा स्थान कानपुर रहा जहां पर तापमान -1.1 रहा। इसके बाद लखनऊ और फिर इलाहाबाद रहा। अधिकांश शहरों में तापमान 1 डिग्री से नीचे रहा। पूरा प्रदेश बुरी तरह ठंड के प्रकोप से ग्रस्त है। कई स्थानों पर सुबह ओस की बूंदे बर्फ में तब्दील हो गई। मौसम विभाग के अनुसार अगले कुछ दिनों तक शीत लहर का प्रकोप जारी रहेगा। पिछले 48 घंटों में प्रदेश के अधिकांश भागों में अधिकतम तापमान भी 15 डिग्री के आस पास ही रहा।

इलाहाबाद में ठंड का आलम यह था कि बारह बजे तक गुलजार रहने वाला चौक का इलाका भी रात आठ बजे तक सुनसान हो गया। मौसम विज्ञानी डाक्टर एस एस ओझा ने कहा कि अभी तीन चार दिनों तक ठंड से राहत के कोई आसार नहीं है। शीतलहरी से इलाहाबाद में मंगलवार को कुल नौ मौते हुईं। मेला क्षेत्र में एक साधु भी ठंड से जान गंवा बैठा। मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले से आए जूना अखाड़े के संत शंभूगिरि की ठंड की वजह मृत्यु हो गई। इसी अखाड़े के मंहत रामदत्त गिरि व नागेश्वर गिरि भी ठंड से बीमार हैं। 

ठंड की वजह से इलाहाबाद की शहर पशिचमी और दक्षिणी के कई मोहल्लों में विधुत व्यवस्था चरमरा गई। जिससे पानी की आपूर्ति भी बाधित रही। कैंट से आने वाली लाइन में फाल्ट के चलते खुसरोबाग उपकेन्द्र से जुड़े मोहल्ले भी प्रभावित रहे। हीटर गीजर ब्लोअर और एसी के अत्यधिक प्रयोग के कारण लोड बढ़ना इसकी प्रमुख वजह मानी जा रही है।

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

Miscellaneous

Who's Online

We have 2603 guests online
 

Visits Counter

750265 since 1st march 2012