Friday, November 24, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 


नई दिल्ली  : बराक और मिशेल ओबामा को 27 जनवरी को ताज महल देखने आगरा जाना था, लेकिन उनका यह दौरा रद्द कर दिया गया। बताया जा रहा है कि ओबामा का दौरा सुप्रीम कोर्ट के उस आदेश के कारण रद्द किया गया, जिसमें कोर्ट ने ताजमहल के 500 मीटर के दायरे में पेट्रोल या डीजल की कार ले जाने पर प्रतिबंध लगा रखा है, लेकिन कुछ एक्सपर्ट्स इसके पीछे के कारण को इंटरनैशनल ऑइल पॉलिटिक्स को मान रहे हैं। उनका कहना है कि ओबामा ने आगरा में ताजमहल को देखने की बजाए मंगलवार को सऊदी अरब के नए बादशाह सलमान बिन अब्दुल अजीज से मिलने को तरजीह दी। इन एक्सपर्ट्स के मुताबिक सऊदी अरब जाने में कहीं देरी न हो जाए इस वजह से ओबामा ने अपना आगरा दौरा रद्द किया।

सवाल यह उठता है कि आखिर ओबामा ने ताज जाने के स्थान पर सऊदी जाने को क्यों प्राथमिकता दी? इसका जवाब सऊदी अरब का तेल भंडार है। हालांकि, अमेरिका में शेल गैस का उत्पादन बड़े स्तर पर हो रहा है, लेकिन इसका भंडार सीमित है।

 

सऊदी अरब में प्रतिदिन जितना तेल उत्पादन होता है उससे सिर्फ एक मिलियन यानी 10 लाख बैरल प्रतिदिन ही कम उत्पादन अमेरिका में होता है।

इसमें कोई शक नहीं है कि अमेरिका में तेल का भारी उत्पादन हो रहा है, लेकिन लम्बे समय तक शेल से तेल का उत्पादन मुमकिन नहीं है। वहीं, अब सस्ते तेल का मुकाबला शेल गैस कंपनियां नहीं कर सकती हैं। दूसरी बात यह है कि पूरी दुनिया एक दिन में जितना तेल का इस्तेमाल करती है, उसका 25 फीसदी अकेले अमेरिका उपभोग करता है।

जहां तक सऊदी अरब का संबंध है तो वहां इतना बड़ा तेल भंडार है जो लंबे समय तक खत्म होने वाला नहीं। तेल के मामले में अभी कुछ दशकों तक खाड़ी देशों का वर्चस्व बने रहने में कोई शंका नहीं है। यही असल वजह है जो ओबामा को अपना ताज दौरा रद्द करना पड़ा, क्योंकि ओबामा को जल्द से जल्द सऊदी अरब जाना है और किंग अब्दुल्ला के निधन पर सांत्वना देना है।

साभार: नव भारत टाइम्स 

 

Miscellaneous

Who's Online

We have 2508 guests online
 

Visits Counter

750932 since 1st march 2012