Friday, November 24, 2017
User Rating: / 1
PoorBest 

women banks

महिला सशक्तिकरण से जुड़े संगठनों को मिलेगा ऋण, ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों में खोली जाएंगी शाखाएं 

अक्टूबर में शुरूआत

  • देश में सिर्फ 26% महिलाओं का किसी बैंक या वित्तीय संस्था में खाता
  • लाइफ इंश्योरेंस और पेंशन फंड जैसी सुविधाएं भी उपलब्ध होंगी
  • बैंक महिला सशक्तीकरण से जुडे़ संगठनों को ऋण भी मुहैया कराएगा

        नई दिल्ली। देश में महिला बैंक का सपना जल्द पुरा होने जा रहा है। केंद्र सरकार देश के हर हिस्से में महिला बैंक खोलने की तैयारी कर रही है। सरकार ने तीन साल के अंदर पूरे देश में सौ महिला बैंक खोलने का लक्ष्य रखा है। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में गुरूवार को होने वाली कैबिनेट की बैठक में ‘भारतीय महिला बैंक लिमिटेड’ को मंजूरी मिल सकती है।

          वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने वर्ष 2013-14 का बजट पेश करते हुए महिला बैंक खोलने का ऐलान किया था। वित्त मंत्रालय के प्रस्ताव के मुताबिक, पहला महिला बैंक अक्टूबर के आखिरी सप्ताह में खुलने की संभावना है। सरकार उत्तर, दक्षिण, पूर्व, पशिचम, मध्य और पूर्वोत्तर में महिला बैंक की शाखाएं खोलेगी। मार्च 2014 तक महिला बैंक की 25 शाखाएं होंगी। भारतीय महिला बैंक लिमिटेड 1000 करोड़ रूपये की शुरूआती राशि से शुरू किया जाएगा। इसका मुख्यालय दिल्ली में होगा। बैंक की सभी कर्मचारी महिलाएं होंगी। बैंक महिलाओं और महिला स्वयंसेवी समूह (डब्लूएसएचजी) को वाणिज्यिक सेवाएं मुहैया कराएगा। देश में करीब 80 लाख डब्लूएसएचजी हैं और इनके बचत खातों में 6550 करोड़ रूपये हैं। वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, महिला बैंक की पहली ब्रांच अक्टूबर के आखिरी सप्ताह या नवंबर में शुरू होने की संभावना है। महिला बैंक पांच साल के भीतर मुनाफे में आ जाएगा। सरकार ने साल साल के अंदर (वर्ष 2020 तक) भारतीय महिला बैंक लिमिटेड की 450 शाखाएं खोलने और दो हजार एटीएम का लक्ष्य रखा है।

साभार: हिन्दुस्तान

 

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

women empowerment

Who's Online

We have 2489 guests online
 

Visits Counter

750959 since 1st march 2012