Friday, November 24, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

Image result for home decorated with diwali

दिपावली आने वाली है और आपने घर की सफाई तो अब तक पूरी कर ही ली है। अब तो प्रत्येक घर की गृहिणी दिवाली की शाॅपिंग में व्यस्त हो गई होंगी। क्राकरी, फर्नीचर, सजावटी दीये, पर्दे इत्यादि कितनी चीजें आपको खरीदनी है। बच्चों को आप कितने दिन से टाल रहीं हैं कि दिवाली पर खरीदेंगे।

उनकी लिस्ट तो अब तक में बहुत लंबी हो गई होगी। कितनी शाॅपिंग करनी है आपको। कुछ तो आपने कर भी ली है अब तक, लेकिन शाॅंिपग ऐसी चीज है कि लाॅस्ट मिनिट तक खतम होने का नाम ही नहीं लेती। दिपावली रोशनी का पर्व है तो आईए इस बार दिवाली भारतीय रोशनी से रोशन करें।
दिवाली के दौरान बाजार देशी और विदेशी सामानों विशेषकर चाईनीज आईटम से भरा रहता है। हम लोग जरूरत के मुताबिक सामान खरीदते हैं इनमें चाईनीज आईटम भी होता है। परंतु अब से मेड इन चाईना को नो कहिए और मेड इन इंडिया को यस। आज पूरे भारतवर्ष में चाईनीज सामानों का बहिष्कार किया जा रहा है, आखिर क्यों।
पाकिस्तान की वजह से आज हमारे जवान भाई शहीद हो रहें हैं। पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद से हमारा देश आतंकवादी घटनाओं को झेलने को मजबूर है। भारत पाकिस्तान सीमा से सटे जगहों पर रहने वाले लोग तो रोज ही आतंकवाद का दंश झेल रहे हैं। सीमा पर हमारे जवान भाई डटकर जवाब दे रहे हैं। इससे हम लोग पर आतंकवाद का सीधा असर नहीं पड़ रहा है लेकिन आए दिन भारतीय सेना अपने किसी न किसी जवान को खो देती है। पाकिस्तान अपनी हरकतों की वजह से अकेला पड़ता जा रहा है। परंतु चीन पाकिस्तान का साथ छोड़ने को तैयार नहीं है। कभी वह खुलकर पाकिस्तान का साथ देता है तो कभी इशारों में। चीन आतंकवादी को आतंकवादी नहीं समझता। क्या आप इसी चीन के बने सामानों से अपना घर भरकर चीनी अर्थव्यवस्था को मजबूत करती जाएंगी।
यह हो सकता है कि जितने पैसे में हम चार चीनी सामान खरीदेंगे उतने पैसे में हम दो ही भारतीय सामान खरीद सकते हैं। लेकिन उससे क्या फर्क पड़ता है, क्या यह हमारा फर्ज नहीं बनता कि हमारी जान को महफूज रखने के लिए जो जवान भाई शहीद हो रहे हैं चीनी सामानों का बष्किार करके हम उन्हें एक छोटी सी श्रद्धांजली दें।
घर की जरूरत का सामान, सजावट का सामान, बच्चों का सामान ज्यादातर गृहिणियां ही खरीदती हैं। इसलिए गृहिणी यदि चाहंे तो बड़ी आसानी से चीनी सामान के बहिष्कार की जो मुहिम चल पड़ी है वह सफल होकर रहेगी। आप अपने पति से कहिए कि मेरे घर में चीनी सामान नहीं आएगा और बच्चों को समझाएं कि क्यों चीनी सामान नहीं खरीदना है देखिए बात बन जाएगी। इस लेख में भारतीय रोशनी का अर्थ भारत की बनी झालरें नहीं हैं बल्कि इसका मतलब भारतीय उत्पादों से है।
आतंकवाद के मुद्दे के अलावा भी चीनी सामान न खरीदने के और भी कारण हैं। चीनी सामान की कोई गारंटी नहीं होती है। हो सकता है कि आप आज कोई चीनी आईटम लाएं और कल ही वह खराब हो जाए, ऐसा भी हो सकता है कि वह चल निकले। हम जिस भी देश का सामान खरीदते हैं उसकी अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में हमारा योगदान होता है। तो हम यह योगदान भारत की अर्थव्यवस्था को न देकर चीनी अर्थव्यवस्था को क्यों दें। हो सकता है कि आप जैसी लाखों ग्हिणियों का यह छोटा सा योगदान एक दिन बहुत बड़ा बन जाए।
चाईनीज झालर के बदले में क्यों न अब से हम दिपावली का पर्व दीयों से रोशन करें। इसके तीन फायदे हैं चीनी सामान का बहिष्कार, कुम्हारों को रोजी रोटी और ईको फ्रेंडली दिवाली। साथ ही साथ कुम्हारों के घर में दिवाली पर दो दीए जल पाएंगे वरना चाईनीज झालरों ने तो उनकी दिवाली हमेशा के लिए अंधकारमय बना दी है। बहुत शहरों में चाईनीज सामान के बहिष्कार हेतु शपथपत्र पर हस्ताक्षर लिए जा रहे हैं। आप उस पर हस्ताक्षर करें या न करें आइए आज अपने दिल के शपथपत्र पर हस्ताक्षर करें क्योंकि सबसे बड़ा शपथपत्र तो दिल का ही होता है।

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

women empowerment

Who's Online

We have 2603 guests online
 

Visits Counter

750959 since 1st march 2012