Saturday, November 25, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

rangoli

घर उसे कहते हैं जहां पूरे दिन की व्यस्तता के बाद हम लौट कर आते हैं।घर चाहे किराये का हो या निजी उसे हम स्वीट होम ही कहते हैं और वहां हम स्वयं को सबसे ज्यादा सुरक्षित महसूस करते हैं। महिला चाहे काम काजी हो या केवल हाउस वाइफ घर को स्वीट होम बनाये रखने की जिम्मेदारी उसी की होती है। यूं तो आप हमेशा घर संवार कर रखती ही हैं परंतु त्यौहारों के पहले उसे विशेष रूप से सजाती होंगी।दीवाली पर तो हर कोई अपने घर को अलग लुक देना चाहता है। पेश है कुछ आइडियाज जिससे आपको मदद मिल सकती है। 

दीवाली का सीधा संबंध साफ सफाई से है क्योंकि इस अवसर पर लक्ष्मी गणेश की पूजा की जाती है और लक्ष्मी सफाई पसंद करती हैं। मान्यता है कि दीवाली पर लक्ष्मी की कृपा उसी पर होती है जिसका घर साफ हो। बहुत से लोग इस समय घर में रंग रोगन कराते हैं। इससे घर की साफ सफाई भी हो जाती है। अगर इस दीवाली आप पेंट करवाने की नहीं सोच रही हैं तो भी आप घर की सजावट से इसे खास बनाना चाहेंगी।

सबसे पहले आप घर के जाले झाड़ लें, यदि दीवारों की पेंट वाशेबल हो तो उसे साफ करें,जमे हुए दाग मैल को क्लीनर से साफ करें। आइए अब ड्राइंगरूम की ओर चलते हैं। दीवाली पर पर्दे गहरे रंग के लगाए जाते हैं। परंतु आपके दीवारों के साथ अगर गहरे रंग मेल नहीं खाते है तो आप अपने पसंद के पर्दे लगाएं। कुशन कवर ,सोफा कवर बदल दें। पर्दे ,सोफा कवर ,कुशन कवर कंट्रास्ट कलर का हो। यदि दीवार हल्के हरे ,नीले या सफेद हो तो पर्दा डार्क आरेंज हो सकता है। साथ में गोल्डन येलो सोफा कवर और डार्क मरून या डार्क ग्रीन अथवा टमाटो रेड केशन कवर हो तो क्या कहने! इससे कमरा बहुत ब्राइट दिखेगा। अगर दीवार का कलर लेमन हो तो पर्दे डार्क ग्रीन और सोफा कवर डार्क आरेंज तथा डार्क मरून गुजराती मिरर वर्क का कुशन कवर लगा सकती हैं। इसी रंग के दीवार पर डार्क मरून पर्दों के साथ लाइट येलो सोफा कवर और मरून या डार्क ग्रीन कुशन कवर जिस पर कंट्रास्ट कलर का लेस लगा हो लगाएं तो आपका कमरा खिल उठेगा।
सिटिंग अरेंजमेंट बदल दें। कमरे में दो इनडोर प्लांट के गमले रखें। वास में ताजे फूल रखें। एक कोने में स्टैंड पर बांस या जूट का टेबल लैंप रखें। रोशनी ज्यादा तेज न करें। कमरे को प्रकाशमय करने के लिए डेकोरेटिव दीया और मोमबत्ती लगा के रखें तथा मेहमान आने पर जला दें। डेकोरेशन पीसेस से कमरे को अजायबघर न बनाएं। इनकी संख्या गिनी चुनी रखें। दीवार पर कमरे के साइज के अनुरूप पेंटिंग या वाल हैंगिंग लगाएं। रूम फ्रेशनर की जगह अगरबत्ती का प्रयोग करें।
डाइनिंग रूम के लुक को बदलने के लिए टेबल कवर और मैटस बदल दें। फि्रज का टाप कवर बदल दें और उस पर चौकोर या गोल एथनिक वास रखें जिसमें सूखे फूल के सिटक लगाएं जो बाजार में आसानी से मिलता है। इस कमरे में एक स्टैचू लगा सकती हैं जिसके सामने डेकोरेटिव दीया लगाएं। कुछ नए क्राकरी लाएं और डाइनिंग टेबल के ऊपर लैंप शेड अवश्य लटकाएं तथा टेबल पर ताजे फूल रखना न भूलें। बाकी कमरों के भी पर्दे ,चादर ,कवर बदलें और पेंटिंग्स लगाएं। अपने बेड रूम में बेड साइड टेबल पर डेकोरेटिव कैंडिल स्टैंड में डेकोरेटिव कैंडिल लगाएं , अगरबत्ती जलाएं।एक कोने में स्टैंड पर कांच का लंबा वास रखें और उसमें ताजे फूलों के सिटक लगाएं। उसके सामने डेकोरेटिव दीये जलाएं। बच्चों के कमरे में मेटल वास रखें।उसमें रंग बिरंगे नकली फूल लगाएं। इस कमरे में बिजली का झालर लगाएं ,माला व प्लासिटक के डेकोरेटिव आइटम्स से सजाएं। सिटकर व पोस्टर बदल दें।
अब प्रवेश द्वार सजाना बाकी है।प्रवेश द्वार पर तोरण लगाएं और माला से सजाएं। इस द्वार के सामने बाहर की ओर रंगोली बनाएं और उस पर एक बड़ा सा दीया जलाएं। द्वार के बगल वाली बाहर की दीवार मालाओं से सजाएं और फूलों या रंग बिरंगे कागजों से शुभ दीपावली लिखें। उसके सामने बड़ी सी रंगोली बनाएं और बहुत सारे दीयों से सजाएं। याद रखें दीवाली रंगोली के बिना अधूरी है।चाहें तो वहां घरौंदा भी रख सकती हैं उस पर रंग बिरंगी मोमबतितयां जलाएं। मन हो तो विंड चाइम बदल दें।
आजकल घर को बिजली के झालर से सजाने का चलन है। झालर अवश्य लगाएं लेकिन इतना नहीं कि आपका घर शादी का घर लगे। इस दीपावली पर घर को ऐसा लुक देकर देखें । आपका घर पारंपरिक और आधुनिक सजावट के मेल से चमकेगा।

आपकी दीपावली शुभ हो।

Comments 

 
#2 kaverii 2012-11-13 08:28
:lol: paje aur paraye.
Quote
 
 
#1 kaverii 2012-11-13 08:25
deep se deepawali sajaye,patakhe khule jagaha chalaye aur naye naye pakwan se mahmano ka mun moh le.deepawali apne keyese manaya sabse share kare.
Quote
 

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

women empowerment

Who's Online

We have 1881 guests online
 

Visits Counter

751046 since 1st march 2012