Friday, November 24, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

teaching online

आप घर बैठे ही देश अथवा विदेश में भी ऑनलाइन ट्यूटरिंग का कारोबार शुरू कर सकते हैं। ऑन लाइन ट्यूटरिंग का कारोबार काफी फायदेमंद होता है। किसी भी विषय पर अच्छी जानकारी के बाद ही इस काम को शुरू किया जा सकता है

       इसमें स्टूडेंट प्राइवेट ट्यूशन की भांति पढ़ाई करते हैं। बस, अंतर इतना ही होता है कि स्टूडेंट और ट्यूटर आमने-सामने नहीं होते बल्कि एक-दूसरे से इंटरनेट के माध्यम से जुड़े होते हैं। इसमें अध्ययन सामग्री और आंकड़ों का आदान-प्रदान कंप्यूटर और इंटरनेट के माध्यम से ही किया जाता है। इस तरह की पढ़ाई मुख्य रूप से मैथ्स, फिजिक्स, केमेस्ट्री, अंग्रेजी, हिन्दी या फिर किसी विदेशी भाषा के लिए की जाती है। इसके अंतर्गत काम करने वाली संस्थाओं को केपीओ यानी नॉलेज प्रोसेसिंग आउटसोर्सिंग कहा जाता है।

योग्यता

       वैसे तो टीचिंग के कारोबार में जाने के लिए बीएड, एमएड, पीएचडी के साथ टीईटी, नेट आदि परीक्षा पास करनी होती है लेकिन ऑन लाइन ट्यूटर्स के लिए ज्यादातर कंपनियां मास्टर डिग्रीधारकों को ही प्रमुखता देती हैं। इसके लिए भाषा का अच्छा ज्ञान और विषय पर अच्छी पकड़ होनी चाहिए।

व्यक्तिगत गुण

  • टीचिंग के प्रति पैशन होना जरूरी है।
  • भाषा पर अच्छी पकड़ होनी चाहिए।
  • जिस भी देश के स्टूडेंट को ऑनलाइन ट्यूटरिंग करना होता है, उन्हें पाठ्यक्रम, उनके सीखने का तरीका और अन्य जानकारी होनी जरूरी है।
  • करेंट सिलेबस से अपने आपको अप-टू-डेट रखना जरूरी है।
  • ऑनलाइन ट्यूटर्स के पास अपना कंप्यूटर, ब्रॉडबैंड कनेक्शन, माइक्रोफोन, हेडफोन, डिजिटल पेन, कंप्यूटर अटैच इलेक्ट्रॉनिक बोर्ड या शेयर स्क्रीन व वेब कैमरा वीडियो चैट के लिए होना जरूरी है।

रोजगार

       ऑनलाइन ट्यूटरिंग को ई-ट्यूटरिंग भी कहा जाता है। इसकी मांग प्रत्येक ट्रेनिं ग कं पनियों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में होती है जहां पर ऑनलाइन क्लासेज चलाई जाती हैं। इसमें कुछ हद तक पार्टटाइम और कुछ लोग स्थायी रूप से भी काम करते हैं। कुछ कंपनियां घर से भी काम करने की आजादी देती हैं। इसमें समयावधि के लिए कोई भी सीमा नहीं होती है। लोग अपनी सुविधा के अनुसार समय निर्धारित करा सकते हैं। इसमें महिलाओं और रिटार्यड लोगों के लिए अच्छे ऑप्शन हो सकते हैं।

कैसे प्राप्त करें जॉब

                इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन ट्यूटोरियल सर्विस सेंटर पर अप्लाई करना पड़ता है। फिर टे लीफो निक इंटरव्यू और आवश्यकता पड़ने पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा कंडीडेट का चुनाव किया जाता है। ज्यादातर कंपनियां ऐसे ट्यूटर्स हायर करती हैं जो लैं ग्वेज स्किल्ड, एक्सेंट एक्सपर्ट और प्रोफेशनल कोर्स में महारथ होते हैं। जो कंपनियां इस तरह के सेंटर चलाती हैं वे सारी जिम्मेदारियां जैसे स्टू डेंट्स, उनका ले टे स्ट सिलेबस, टाइमटेबल और कोर्स का ट्यूटर्स भी वही निर्धारित करती हैं। विभिन्न प्रतियोगी परीक्षा के लिए भी ऑनलाइन ट्यूटर्स की मांग होती है। प्राइवेट कंपनियों के अलावा विभिन्न शिक्षण संस्थानों द्वारा चलाई जा रही ऑनलाइन पढ़ाई के लिए ट्यूटर्स की मांग होती है। अच्छे अनुभव के आधार पर स्वयं का ट्यूटरिंग सेंटर खोला जा सकता है। ऑनलाइन सेमिनार, वर्कशॉप आदि के लिए भी अच्छी-खासी मांग होती है।

आमदनी

                इस रोजगार में आमदनी बहुत ज्यादा होती है। घंटे के आधार पर आमदनी तो होती ही है। साथ ही, एक्स्ट्रा वर्क के भी पैसे मिलते हैं। इसके अलावा, मासिक सैलरी पर भी ट्यूटर्स हायर किए जाते हैं।

शिक्षण संस्थान

                देशभर में कुछ ऐसे संस्थानें हैं, जो ऑनलाइन क्लासेज देती हैं-

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

youth corner

Who's Online

We have 1824 guests online
 

Visits Counter

750774 since 1st march 2012