Friday, November 24, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

 science-city

आंचलिक विज्ञान नगरी, लखनऊ में भूगर्भ जल विभाग उ0प्र0 के सहयोग से भूजल जागरूकता पर आधारित सप्ताह भर चलने वाला (16 से 21 जुलाई, 2013) समारोह चल रहा है। समारोह के तीसरे दिन के कार्यक्रमों की शुरूआत षिक्षकों के लिए आयोजित पावर प्वाइंट प्रजेन्टेषन से हुई तथा इसके साथ ही विधार्थियों के लिए प्रदर्ष खोज प्रतियोगिता जल जागरूकता प्रश्नोत्तरी, एवं जल पर आधारित फिल्म शो आदि का आयोजन किया गया जिसमें लगभग 140 विधार्थियों तथा 10 शिक्षकों ने भाग लिया।

भूजल गुणवत्ता विषय पर अपना लोकपिय व्याख्यान के दौरान श्री नवीन शुक्ला, वैज्ञानिक जल निगम ने बच्चों को जल के विविध संघटकों तथा उनकी पानी में पर्याप्त मात्रा के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि जल में मौजूद फ्लाराइड हमारे दातों के लिए हानिकारक होता है, यह दंतीय फ्लोरिसिस कंकालीय फ्लोरिसिस और अकंकालीय फ्लोरिसिस जैसी बीमारियों का कारण होता है। हमें प्रतिरोधक क्षमतायुक्त भोजन को ग्रहण करना चाहिए। 

'वर्षा जल संचयन के वैज्ञानिक पहलू विषय पर अपने लोकपिय व्याख्यान के दौरान श्री बी.बी. त्रिवेदी, पूर्व वैज्ञानिक, केन्द्रीय भूजल बोर्ड ने वर्षा जल संरक्षण की आवष्यकता पर जोर दिया क्योंकि हमरा भूजल का स्तर दिनोंदिन हमारी पहुँच से नीचे जा रहा है। उन्होने हमारे भविष्य के लिए जल बचाये रखने हेतु जल संरक्षण की कई युकितयाँ सुझाई।

 

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

youth corner

Who's Online

We have 3249 guests online
 

Visits Counter

750775 since 1st march 2012