Thursday, November 23, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

jobs

खास जॉब में स्किल के पीक लेवल पर पहुंच जाने के बाद आप कभी-कभी खुद को उस इंडस्ट्री या फर्म में फंसा हुआ महसूस करते होंगे। आप दूसरी इंडस्ट्री में नहीं जाना चाहते, क्योंकि नए सिरे से शुरुआत करना या सैलरी कट आपको अच्छा नहीं लगेगा। ऐसी सिचुएशन में अडिशनल एजुकेशनल क्वॉलिफकेशन या स्किल टेस्ट हासिल करना सबसे अच्छा ऑप्शन है। यह आपके करियर के लिए फायदेमंद हो सकता है।

ग्रेजुएट

अगर आप ग्रेजुएट नहीं हैं और आपके पास दूसरी कोई डिग्री नहीं है, तो जॉब मार्केट में आप पहले से ही नुकसान में हैं। हो सकता है कि कड़ी मेहनत और काम में लगन की बदौलत किसी ऑटो कंपनी में आपने टेरिटरी सेल्स मैनेजर की पोजिशन पा ली हो, लेकिन आप रीजनल मैनेजर नहीं बन सकते। चाहे आप 20 साल से ज्यादा उम्र के हों या 40 साल के, आपके लिए पार्ट-टाइम या फुल-टाइम ग्रेजुएट डिग्री में इन्वेस्टमेंट करना फायदेमंद रहेगा। इससे देरसबेर आपके पे बैंड या ग्रेड में अंतर देखने को मिलेगा।

इनक्लूसिव वर्क प्रोफाइल

अगर आप अपने करेंट पोस्ट पर अटके हुए हैं, तो आपको ज्यादा इनक्लूसिव वर्क प्रोफाइल के लिए कोशिश करनी चाहिए। इसके लिए आपको ज्यादा जनरलाइज्ड सेट ऑफ स्किल की जरूरत होगी। अगर आप इंडस्ट्री बदलना चाहते हैं, तो आपके लिए जनरल क्वॉलिफिकेशन का चुनाव करना सही रहेगा। आपको अपने स्पेशलाइज्ड वर्टिकल से आगे जाना होगा या अपने डिपार्टमेंट का हेड बनना होगा। मैनेजमेंट क्वॉलिफकेशन इसका सबसे आसान ऑप्शन है। यह आपको ज्यादा एंप्लॉएबल बनाता है और करियर ऑप्शन में इम्प्रूवमेंट लाता है।

स्पेशियलाइजेशन

क्या आपको अपने प्रफेशनल स्किल से प्यार है, लेकिन मैनेजेरियल या लीडरशिप रोल को पसंद नहीं करते? आप ज्यादा स्पेशलाइजेशन हासिल कर लो-वोल्टेज करियर शुरू कर सकते हैं। हालांकि, आपको इसका चुनाव करने में सावधानी बरतनी होगी। ऐसी चीज में स्पेशलाइजेशन करना ठीक रहेगा, जिसकी डिमांड ज्यादा और सप्लाई कम हो। अगर आप पायलट हैं, तो लेटेस्ट एयरक्राफ्ट का कनवर्जन कोर्स कर सकते हैं।

अपग्रेड

अगर आप स्किल्ड प्रफेशनल हैं और पुरानी और बड़ी फर्म या सरकारी डिपार्टमेंट में नौकरी करते हैं तो हो सकता है कि आपका फोकस ऑर्गेनाइजेशन की पॉलिसी तक सीमित हो। कई कोर्स और एग्जाम हैं, जिन्हें करने के बाद आप वर्टिकल या लेटरल मूवमेंट के लिए क्वॉलिफाई कर सकते हैं।

क्रॉस-ट्रेन

अगर आप जनरलाइज या स्पेशलाइजेशन नहीं चाहते, तो ऐसे कोर्स का चुनाव करें जो आपको रोमांचित करता हो। स्किल सेट को कॉमप्लिमेंट करने के रास्ते तलाश सकते हैं। इससे आपको खुद को ज्यादा एंप्लॉएबल बनाने में मदद मिलेगी। अगर प्रिंट जर्नलिस्ट के रूप में आपको ग्राफिक्स अट्रैक्ट करता है, तो आप वेब डिजाइनिंग कोर्स कर सकते हैं।

कोर्स शुरू करने से पहले खुद से पूछे सवाल...

क्या आपके पास वक्त है?

वर्किंग प्रफेशनल के रूप में स्टडी के लिए टाइम निकालना आपके लिए सबसे बड़ा चैलेंज होगा।

कॉस्ट क्या होगी?

ज्यादा महंगे, फुल टाइम कोर्स करने से पहले इसमें लगने वाले समय और वेजेज लॉस पर भी विचार कर लें

क्या इससे असर पड़ेगा?

आप क्या सीखना चाहते हैं? कोर्स से वर्कप्लेस पर आपको किस तरह का बेनेफिट मिलेगा? इन सवालों का जवाब जानना जरूरी है।

क्या यह सर्टिफायड है?

कोर्स ऑफर करने वाले इंस्टिट्यूट की मार्केट में साख अच्छी होनी जरूरी है।

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

youth corner

Who's Online

We have 1197 guests online
 

Visits Counter

750290 since 1st march 2012