Friday, November 24, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

3 feet

तीन फीट के सूर्य प्रताप को इलाहबाद विश्वविद्यालय में मिला एडमिशन

सेलीब्रिटी की तरह किया ट्रीट, फोटो खिंचवाने की मची होड़

इलाहाबाद। अरे... अरे... ये बच्चा कहां घुसा जा रहा है इतनी भीड़ में... हटाओं इसे किसका बच्चा है भार्इ... दब जाएगा... किसके साथ आया है भार्इ ये बच्चा... बुलाओ इसके मम्मी पापा को... जी हां, यह नजारा मंडे को प्रवेश भवन पर उस समय देखने को मिला, जब बीए में एडमिशन के लिए प्रवेश भवन पर सैकड़ों स्टूडेंटस की कतार लगी थी। इस बीच तीन फीट का स्टूडेंट भीड़ में जा घुसा। उसके भीड़ में खड़े स्टूडेंटस और एयू एडमिनिस्ट्रेशन से जुड़े आफिसर्स ने उसे बच्चा ही समझा। लेकिन जब उसने बताया कि वह बीए में एडमिशन लेने आया है तो सभी अवाक रह गए।

फोटो खिंचवाने की लगी होड़

        दरअसल, अर्जुनपुर पटटी प्रतापगढ़ के रहने वाले सूर्य प्रताप सरोज की एक्चुअल उम्र 18 साल है। उनकी डेट आफ बर्थ 18 अक्टूबर 1995 है और वह हमारे आपकी तरह ही एडल्ट है। अलबत्ता, कुदरत के करिश्मे के चलते सूर्य प्रताप को हर किसी की तरह नेचुरल हाइट प्राप्त नहीं हो सकी। यही कारण है कि किसी छोटे बच्चे की तरह दिखने वाले सूर्य प्रताप की हकीकत जानने के बाद उन्हें देाने के लिए प्रवेश भवन पर मजमा लग गया। आलम यह है कि किसी सेलिबि्रटी की तरह सूर्य प्रताप जहां भी जा रहा था। उसके आगे पीछे भीड़ का कोलाहल देखने को मिला। गल्र्स और ब्वायज सभी में उसके साथ फोटो खिंचवाने की होड़ मची रही।

जनाब सबसे बड़े हैं

        आपको जानकर हैरानी होगी कि चार भार्इ बहनों में सूर्य प्रताप सबसे बड़े हैं उनसे छोटे भार्इ राजन, रोशन और बहन सुधा हैं। पिता श्री राम सरोज सिंचार्इ विभाग में अमीन हैं। जबकि मां सुमित्रा देवी घर संभालती हैं।

पूरा हुआ विश्वविधालय में पढ़ने का ख्वाब

        गांव के बैकग्राउंड से पढ़े-लिखे सूर्य प्रताप का ख्वाब इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में एडमिशन का था। सूर्यप्रताप ने बताया कि उसकी जान पहचान में यूनिवर्सिटी से पढ़ने वाला कोर्इ नहीं था। ऐसे में यूनिवर्सिटी में पढ़ार्इ करना सपनों सरीखा था लेकिन यह सपना मंडे को पूरा हो गया। बावजूद उसे इसका विश्वास नहीं हो पा रहा है कि उसे यूनिवर्सिटी में बीए फस्र्ट र्इयर में एडमिशन मिल गया है। उसे बीए के एंट्रेंस में 95 मार्क्स मिले थे। सूर्य प्रताप ने बीए में इंगिलश लिटरेचर, फिलासफी और एंसिट हिस्ट्री लिया है। उसका सोचना है कि एयू के प्रोफेसर्स के मार्गदर्शन में वह आगे चलकर आर्इएएस बन पाएगा और देश सेवा का उसका सपना पूरा हो सकेगा।

पढ़ार्इ में भी मास्टरमाइंड

                भले ही सूर्य प्रताप की हाइट बेहद कम हो। लेकिन उसके जीवन पर इसका कहीं से कोर्इ असर नहीं दिखता। उल्टे यह कह सकते हैं कि उन्हें बचपन से ही मेधा गाड गिफ्ट के रूप में मिली। पढ़ने लिखने में बेहद होशियार सूर्य प्रताप को हार्इस्कूल और इंटर में क्रमश: 59 और 69 परसेंट नम्बर मिले हैं। उसने श्री राम सेवक इंटर कालेज सिरनाथपुर से इंटर तक की पढ़ार्इ की है। यूनिवर्सिटी में एडमिशन लेते वक्त बीए एडमिशन के कोआर्डिनेटर डा. एचके शर्मा उसकी मेधा से उस समय अचंभित रह गए। जब उसने एडमिशन से संबंधित सभी फार्मेलिटीज को बखूबी निभाया। जबकि बाकी स्टूडेंट छोटी-छोटी चीजों को लेकर परेशान देखे गए। डायरेक्टर एडमिशन प्रो. बीएन सिंह ने भी सूर्य प्रताप के जज्बे को सेल्यूट किया। प्रो. सिंह ने अपने रिलेटिव मुकेश के साथ आए सूर्य प्रताप को बकायदा अपने चेम्बर में बुलाया और उसे फ्यूचर की शुभकामनाएं दीं।

 

कम हार्इट के स्टूडेंटस पहले भी एडमिशन लेते रहे हैं। लेकिन सूर्य प्रताप की बात ही अलग लगी। उसका कान्फीडेंस लेवल गजब का लगा। मुझे पूरी उम्मीद है कि उसका फ्यूचर ब्राइट होगा।

प्रो. बीएन सिंह

डायरेक्टर एडमिशन

पहले तो मैं आश्चर्यचकित रह गया कि यह बच्चा कहों से आ गया। लेकिन जब उसने बताया कि एडमिशन लेने आया है तो सहसा विश्वास ही नहीं हुआ। उसके डाक्यूमेंटस आदि देखकर ही विश्वास हो सका। उसकी हार्इट देखकर सभी अचंभित थे।

डा. एचके शर्मा

कोआर्डिनेटर बीए एडमिशन

साभार: आई नेक्स्ट

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

youth corner

Who's Online

We have 1501 guests online
 

Visits Counter

750773 since 1st march 2012