Tuesday, November 21, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

colours painting

 

पेंटिंग्स पर चर्चा करते डॉ. अजय जेतली 

 

इलाहबाद। नेचर के डिफरेंट कलर्स की दुनिया में ऑडियंस ऐसा खोए की एक-एक कलर और पेन्टिंग की बारीकी को देखते ही रह गए। हर पेन्टिंग अपने आप में जीवंत लगी। ऐसा लगा मानों ये पेन्टिंग्स कुछ कह रही हैं। इलाहाबाद युनिवर्सिटी के अंडर में ही रन करने वाले डिपार्टमेंट ऑफ विजुअल आर्ट्स की ओर ट्यूजडे को निराला आर्ट गैलरी में पेन्टिंग एग्जिबिशन ऑर्गनाइज की गई।

इसमें डिपार्टमेंट की स्टूडेंट पूर्णिमा मधुकर की पेंटिंग्स डिसप्ले की गई। पूर्णिमा मधुकर की पेन्टिंग एग्जिबिशन में कोई बड़ा नाम नहीं था। बावजूद इसके एक स्टूडेंट के सराहनीय प्रयास ने अपनी पेन्टिंग्स से, देखने वालों का दिल जीत लिया।

colours painting1colours painting2

खुद ही खिंचे चले आए

        निराला आर्ट गैलरी में विजुअल ऑर्ट्स में बीएफए कोर्स में पढऩे वाली पूर्णिमा मधुकर की पेन्टिंग एग्जिबिशन लगाई गई थी। पेन्टिंग का सब्जेक्ट ही कुछ इस तरह से था कि ऑडियंश अपने आप खिंचे चले आए। पहले लोगों ने सोचा कि आखिर एक ही सनबोर्ड पर नेचर के डिफरेंट डिफरेंट कलर्स को भरकर कैसे अट्रैक्टिव बनाया जा सकता है। मगर पूर्णिमा ने अपने आर्ट के जरिए ऐसा पॉसिबल कर दिखाया। हर एक पेन्टिंग में तीन चार तरह के कलर्स को इतने लयबद्ध तरीके से दर्शाया गया था कि वे अपने आप में खूबसूरती की नई बानगी पेश करते नजर आए। एग्जिबिशन देखने वालों की मार्निंग से ही भीड़ लगी रही। इस दौरान आडियंश ने एक-एक पेन्टिंग्स को सहारा। प्रोग्राम में मौजूद डिपार्टमेंट हेड डॉ. अजय जेटली ने भी स्टूडेंट की कोशिशों को सराहा। पूर्णिमा का कहना है कि वह आगे चलकर बड़ी चित्रकार बनना चाहती है।

साभार: आई नेक्स्ट

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

youth corner

Who's Online

We have 2603 guests online
 

Visits Counter

749687 since 1st march 2012