Friday, November 24, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

kapil 16 yrs

इलाहाबाद। उम्र मायने नहीं रखती यदि इरादे मजबूत हैं और टारगेट को हासिल करने की जिद है। जिद और जुनून की बदौलत तमाम ने मंजिलें पार्इ हैं। इस तरह की मिशाल पेश करने वालों की श्रेणी में इलाहाबाद के कपिल का नाम भी जुड़ गया है। सिर्फ 16 साल के कपिल ने कुछ ऐसा क्रिएट कर डाला है जिसने उसे रातों रात बुलंदियों पर पहुंचा दिया है। उनके इन्नोवेशन से सभी इंप्रेस हैं और वे नहीं चाहते कि यह सिलसिला थमे। तभी तो कपिल को हर संभव मदद देने वाले हाथ आगे आ गए हैं। किसी ने लाजिंग-फडिंग फ्री करने की पेशकश की है तो किसी ने अपनी हार्इटेक लैब में एंट्री की परमिशन दे दी है ताकि कोइ्र भी अभाव कपिल का रास्ता न रोक सके।

 

प्रिंसिपल ने भेंट किया लैपटाप

          जीआर्इसी के स्टूडेंट कपिल देव के एचीवमेंट से बेहद प्रभावित कालेज प्रिंसिपल देवेंद्र कुमार ने उसे लैपटाप गिफ्ट किया है। वेडनेसडे को कालेज कैंपस में उन्होंने समारोह आयोजित कर गिफ्ट भेंट किया ताकि बाकी स्टूडेंटस भी कुछ नया करने के लिए मोटीवेट हों। प्रिंसिपल ने बताया कि कपिल बहुत गरीब घर का लड़का है। सिर्फ मेहनत लगन की बदौलत उसने वह मुकाम हासिल कर लिया है जो रिसर्च करने वालों को भी आसानी से नहीं मिलती। उसकी रिसर्च आगे भी जारी रहे, इसके लिए उसकी हरसंभव हेल्प की जा रही है। हास्टल में उसकी लाजिंग-फूडिंग भी कालेज की ओर से फ्री कर दी गर्इ है। प्रिंसिपल कहते हैं कि कपिल के इसरो जाने के सपने को साकार करने में भी कालेज उसके साथ है।

लैब में काम करने की इजाजत

          कपिल की यह खोज अभी पूरी नहीं हुर्इ है और इस पर रिसर्च वर्क होना बाकी हे। ऐसे में संसाधनों के अभाव में इससे पहले कि यह प्रोजेक्ट दम तोड़ देता एक नेशनल लेवल के इंजीनियरिंग इंस्टीटयूट के डायरेक्टर ने उसे रिसर्च के लिए इलेक्ट्रानिक्स एंड कम्यूनिकेशन डिपार्टमेंट की लैब में वर्क करने की परमिशन दे दी है। इतना ही नहीं इन फ्यूचर में उसे अगर जरूरत पड़ती है तो इंस्टीटयूट उसे एडिशनल टूल किट भी प्रोवाइड कराएगा। डिपार्टमेंट के फैकल्टी मेंबर डा. कुमार व्यंकटेश कहते हैं कि दशहरे की छुटिटयों के बाद कपिल ने लैब में आने की मंशा जाहिर की है। 

क्यों हुआ फेमस

          प्रतापगढ़ के एक गरीब किसान के बेटे कपिल देव ने मोबाइल लॉकर नामक एक डिवाइस डेवलप किया है। उसकी इस खोज के जरिए आप आसानी से अपना घर लॉक कर कहीं भी जा सकते हैं। कोर्इ आपके लॉक से छेड़छाड़ करेगा तो मोबाइल आपको तुरंत अलर्ट कर देगा। कपिल के इस अमेजिंग माडल को टेक फेस्ट अविष्कार में रखा गया था। खुद इंस्टीटयूट के डायरेक्टर ने इस खोज को एप्रिशिएट किया और अपनी ओर से स्पेशल प्राइज भी दिया। इस लॉकर में लगा सेंसर छेड़छाड़ होते ही रिफ्लेक्शन करता है और लॉक सहित मोबाइल में लगे सिम एक-दूसरे को मैसेज भेजकर एलर्ट कर देते हैं।

ताकि अमेरिका भी माने भारत का लोहा

          छोटे उस्ताद कपिल की उम्र भले ही कम हो लेकिन उसके सपनों की उड़ान काफी ऊंची है। वह कहते हैं कि उनका सपना एक दिन नासा के साथ काम करने का है। वह साइंस के क्षेत्र में इंडिया को इतना आगे ले जाना चाहते हैं कि फ्यूचर में अमेरिका भी हमारे देश का लोहा मानने पर मजबूर हो जाए। बकौल कपिल, जिस तरह साइंटिस्ट थामस अल्वा एडिशन और पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने कर्इ बार एक्सपेरिमेंट करने के बाद सफलता पार्इ, उसी तरह उन्होंने भी मोबाइल लॉकर डिवाइस पर काफी रिसर्च की है। कर्इ बार फेल होने के बाद अंत में उन्होंने इसे बनाने में सक्सेज एचीव कर ली।

हो चुका है पेटेन्ट

          कपिल का यह प्रोजेक्ट पहले से ही डिपार्टमेंट आफ साइंस एंड टेक्नोलाजी लखनऊ में केडीएम लॉकर (कपिल देव मोबाइल लॉकर) नाम से पेटेंट हो चुका है। इसके अलावा कपिल हेलमेट लॉकर पर भी वर्क कर रहा है। इस प्रोजेक्ट में मोटरसाइकिल का लाक तभी खुलेगा जब ड्राइवर हेलमेट पहनेगा। हेलमेट उतारते ही बाइक लॉक हो जाएगी। इसके अलावा कपिल 14 से 15 डिवाइस भी तेयार कर चुके हैं। इन पर भी उनका वर्क लगातार चल रहा है।

कपिल का नयापन

  • मोबाइल पर बेस्ड एक ऐसा डिवाइस तैयार किया जो चिप के जरिए आपके घर पर नजर रखेगा
  • चिप को घर के लॉक में फिक्स्ड किया जा सकेगा
  • लॉक के साथ छेड़छाड़ होते ही आपके मोबाइल पर मेसेज आ जाएगा
  • कपिल का यह प्रोजेक्ट डिपार्टमेंट आफ साइंस एंड टेक्नोलाजी लखनऊ में केडीएम लॉकर (कपिल देव मोबाइल लॉकर) नाम से पेटेंट हो चुका है
  • अब ऐसी डिवाइस डेवलप करने पर वर्क कर रहा है जो बाइक और हेलमेट पर एक साथ काम करेगी
  • मतलब आप अपना डिवाइस लगा हेलमेट पहलेंगे तभी बाइक का लॉक खुलेगा

साभार: आई नेक्स्ट

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

youth corner

Who's Online

We have 2204 guests online
 

Visits Counter

750774 since 1st march 2012