Friday, November 24, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

image05

इलाहाबाद। प्यार का रंग फिजाओं में है, सुबह के सूरज की किरण ने प्यार करने वाले के दिलों में और भी रोमांच भर दिया है। 14 फरवरी यानी वैलेंटाइन डे युवाओं ही नहीं हर किसी के दिल में नई स्फूर्ति का संचार कर देता है। जाहिर आज के दिन को खास बनाने के लिए फूलों, उपहारों, केक की दुकानों और रेस्तरां सुबह से ही चमचमा रहे हैं। दुल्हन की तरह लाल रंग में सजे माल्स रेस्तरां अनूठे दिख रहे है। 

इन सब के बीच उपहारों से वैलेंटाइन डे को खास बनाने के लिए बाजारों में कमर कसी है। आज के दिन उपहारों की लम्बी फेहरिस्त के साथ आर्चीस ने कई गिफ्ट लान्च किए है। इनमें आई लव यू लिखे टेडी बियर हैं। जो रेड पिंक कई रंगों में मौजूद है। इसके अलावा चाकलेट भी आपके प्यार के इजहार को खास बना देगा। इसके लिए आर्चीस में आकर्षक पैक में चाकलेट की वैराइटी मौजूद है। इन पैकेट की कीमत 200 रुपए से लेकर 500 रुपए तक है।

vt day

अगर आप अपनी जुबां से प्यार का इजहार नही कर पा रहे हैं तो बाजार में कार्ड की कई वैराइटी मौजूद हैं। इनमें वह सबकुछ है जो आप कहना चाह रहे थे। इसके अलावा म्यूजिकल कार्ड भी है जो इस खुलते दिल की सारी बात बता देंगे। इनकी कीमत 40 से लेकर 300 रुपए के बीच है। अगर आप अपनी वैलेंटाइन को खुश करना चाह रहे हैं तो ज्वेलरी बढि़यां आप्शन क्या हो सकता हैं। पिंक कलर के स्टोन का इयररिं, पेंडेंट या फिर ब्रेसलेट उन्हें जरूर पसंद आएगा। इनकी कीमत 200 से लेकर 1000 रुपए के बीच है। आप एक दूसरे को घड़ी भी गिफ्ट कर सकते हैं। इन सब के अलावा परफ्यूम, रेड ड्रेस, काफी मग, किताबें, रोमांटिक गानों की डीवीडी, फैशन एसेसरीज, फोटो फ्रेम, वालेट, बैग आदि भी गिफ्ट कर सकते है।

vt day

क्यों मनाते हैं वैलेंटाइन डे

इस दिन का नाम वैलेंटाइन डे क्यों पड़ा इसके पीछे भी एक कहानी है। रोम में तीसरी सदी में क्लाडियस नाम का राजा राज्य करता था। क्लाडियस का मानना था कि शादी करने से पुरूषों की बुद्धि और शकित कम हो जाती है इसलिए उसके राज्य में सैनिकों और अधिकारियों को शादी करने की आजादी नहीं थी। रोम के एक प्रसिद्ध संत वैलेंटाइन ने उसके इस आदेश का विरोध कर लोगों को विवाह और प्रेम की ओर प्रेरित किया। उन्होंने कई सैनिको और अधिकारियों का विवाह करवाया। अपने आदेश का विरोध देख क्लाडियस ने संत वैलेंटाइन को 14 फरवरी के दिन फांसी पर चढ़वा दिया। तब से इस दिन को उनकी याद में प्रेम दिवस के रूप में मनाया जाने लगा।

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

youth corner

Who's Online

We have 2812 guests online
 

Visits Counter

750775 since 1st march 2012