Friday, November 24, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

hobby

अगर तुम अपनी हॉबी को पूरे मन से करोगे और उसके बारे में और जानने-सीखने का प्रयास करोगे तो तुम्हें इसका काफी फायदा होगा। अगर तुम्हारी कोई हॉबी नहीं है तो आज बना लो। इसके बहुत फायदे हैं।

हर बच्चे की कम से कम एक हॉबी होना बहुत जरूरी है। अगर तुम्हारी कोई हॉबी नहीं है तो गर्मियों की इन छुट्टियों में कोई हॉबी चुनो। हॉबी का मतलब है ऐसा काम, जिसे करने में तुम्हें मजा आए, जिसके बारे में तुम और जानना-सीखना चाहो। तुम नृत्य, गायन, संगीत, पेंटिंग, स्पोर्ट्स, राइटिंग आदि में से किसी को भी चुन सकते हो।

 

इन्हें बना सकते हो हॉबी

डांस - डांस करना एक अच्छी हॉबी है। इससे आत्मविश्वास, अनुशासन सीखते हैं। जिन बच्चों की डांस में रुचि है, उन्हें 4-5 साल की उम्र में डांस क्लास ज्वॉइन कर लेनी चाहिए, क्योंकि इस उम्र में शरीर बहुत लचीला होता है और डांस सीखने में आसानी होती है। डांस सीखने के कई फायदे हैं। यह तुम्हें फिट रखता है और आजकल टीवी पर आने वाले रियलिटी शो भी डांसर्स के लिए अच्छा प्लेटफॉर्म है। बड़े होकर कोरियोग्राफर, एक्टर, डांसर के रूप में करियर बनाने में भी मदद मिलती है।

गायन - संगीत को एक बहुत उच्चकोटि की कला माना जाता है। गायन सीखने के लिए सुर और ताल की समझ होना जरूरी है। इसके लिए रोज रियाज करना पड़ता है। यह रियाज किसी गुरु की देखरेख में करना जरूरी है। अगर तुम्हें गायन में रुचि है तो जल्दी ही रियाज करना शुरू कर दो। मम्मी-पापा से कहकर किसी योग्य गुरु को चुनो। फिर तो तुम स्कूल के वार्षिकोत्सव और परिवारिक समारोहों में खूब वाहवाही बटोरोगे। साथ ही गाना गाना फेफड़ों को मजबूत बनाता है और तनाव कम करता है।

पेंटिंग - तुम में से कई बच्चों को पेंटिंग करना पसंद होगा। तुम नहीं करते हो तो अब शुरू करो। जो महसूस करते हो, उसे कागज पर उतारो। स्केचिंग क्लास भी ज्वॉइन कर सकते हो। पेंटिंग से रचनात्मकता बढ़ती है। निरंतर प्रयास करने से, धैर्य रखने का गुण विकसित होता है और राइटिंग अच्छी होती जाती है।

लेखन - लिखना एक बेहतरीन हॉबी है। लिखते समय तुम्हारी कल्पना कहीं भी जा सकती है। तुम यह न सोचना कि लिखने के लिए तुम्हारी उम्र अभी कम है। तुमने सुना ही होगा कि पाकिस्तान की मलाला यूसुफजई सबसे कम उम्र की है, जिसे नोबल शांति पुरस्कारों के लिए नामित किया गया है। जानते हो, उसने 11 साल की उम्र में ही डायरी लिखना शुरू कर दिया था। वह नाम बदलकर बीबीसी के लिए ब्लॉग भी लिखती थी। लिखने के इसी शौक और हौसले ने उसे पूरी दुनिया में मशहूर कर दिया। तुम भी एक डायरी बनाओ और जो मन में है, उसे वैसा ही कागज पर उतार दो। हर रविवार को उस डायरी को पढ़ो, कुछ दिन बाद तुम खुद ही हैरान रह जाओगे कि क्या यह सब तुमने लिखा है।

मम्मी-पापा के लिए टिप्स...

बाल मनोवैज्ञानिकों के अनुसार, जिन बच्चों की कोई हॉबी नहीं होती उनमें आत्मविश्वास की कमी होती है। माता-पिता को भी अपने बच्चों को कोई हॉबी विकसित करने में सहायता करनी चाहिए। बच्चा जिस भी चीज को मन से करे, उसे वह करने की प्रेरणा देनी चाहिए।

हॉबी के हैं कई फायदे..

- पढ़ाई के बाद बचे समय का सही इस्तेमाल कर पाएंगे।

- बड़े होने पर करियर बनाने में मदद मिलेगी।

- एक्टिव रहोगे, दूसरे बच्चों से घुलोगे-मिलोगे, क्रिएटिविटी बढ़ेगी।

- यह आत्मविश्वास बढ़ाती है।

- हॉबी से रचनात्मकता बढ़ती है, कुछ नया जानने-करने की प्रेरणा मिलती है।

साभार – अमृत प्रभात

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

youth corner

Who's Online

We have 1444 guests online
 

Visits Counter

750773 since 1st march 2012