Saturday, November 25, 2017
User Rating: / 1
PoorBest 

 Ramnavmi-2

रामनवमी की पूर्व संध्या पर सम्मानित हुए राम नाम बैंक प्रयाग के खाताधारक

गायिका श्वेता बाहेती तायल एवं दीपक गुप्ता को मिला कुम्भ सेवा सम्मान, तीन भक्तों को राम सेवा तथा सवा लाख से उपर राम नाम लिखने वाले सभी भक्तों को प्रशसित पत्र एवं अंगवस्त्रम देकर किया गया सम्मानित मनोकामना पूर्ति के लिए कुम्भ में एकत्र राम नाम धन की भक्तों ने की परिक्रमा


18 अप्रैल 2013, इलाहाबाद। रामनवमी की पूर्व संध्या पर राम नाम सेवा संस्थान द्वारा राम नाम बैंक की जीरो रोड सिथत शाखा में सर्वाधिक राम नाम लिखने वालों को एवं महाकुम्भ 2013 में राम नाम लिखने के साथ गंगा सेवा, पालीथिन का प्रयोग न करने तथा पर्यावरण सुरक्षा आदि नि:स्वार्थ, जनकल्याण के कार्यों के लिए भक्तों को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि टीकर माफी आश्रम झूंसी के सुप्रसिद्ध संत हरिचैतन्य ब्रह्राचारी ने कहा कि राम परमात्मा का स्वरूप है राम नाम बैंक से राम धन रूपी कर्ज लेने वाले व्यä किी समस्त मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं जबकि अन्य बैंकों से लिया गया कर्ज विनाश की ओर ले जाता है, राम नाम बैंक का कर्ज धन उन्नति के मार्ग को प्रशस्त करता है, साथ ही वव्यक्ति मानसिक शांति प्रदान करता है। राम नाम एक अमूल्य धन है और इसका कभी क्षय होने वाला नहीं है।

Ramnavmi-5

कलिकाल में राम की महिमा अनन्त है, यह सभी वर्गों के लिए कल्याणकारी है। महाकुम्भ 2013 के दौरान जिन राम भक्तों ने राम सेवा के साथ कुम्भ में सामाजिक कार्य सहित पालीथिन का प्रयोग से कुम्भ मेले क्षेत्र को मुक्त रखने का प्रयास स्वयं किया व करवाया, ऐसा विशिष्ट कार्यों के लिए राम भक्तों में से चयन कर दो भक्तों को कुम्भ सेवा सम्मान से अलंकृत किया गया। राम नाम सेवा संस्थान की अध्यक्ष गुंजन वाष्र्णेय के अनुसार कुम्भ में महत्वपूर्ण योगदान के लिए गायिका श्वेता बाहेती तायल एवं समाजसेवी दीपक गुप्ता को कुम्भ राम सेवा सम्मान से रामनवमी की पूर्व संध्या पर अलंकृत किया गया साथ ही 76 वर्षीय अधिवक्ता जगत नारायण अग्रवाल, उपमा अग्रवाल एवं आभा अग्रवाल को राम सेवा सम्मान से सम्मानित किया गया। प्रत्येक व्यकित जिसने सवालाख की संख्या राम नाम लिखकर पूर्ण की है, उन्हें संस्थान द्वारा अंगवस्त्र एवं प्रशसित पत्र देकर सम्मानित किया गया, यह जानकारी संस्था के आशुतोष वाष्र्णेय ने दी। इस अवसर पर भगवान राम की जन्मकुण्डली सहित राम नाम लेखन पुसितका तथा लाल कलम का नि:शुल्क वितरण किया गया। कुम्भ में संगम तट पर लिखे गए राम नाम की परिक्रमा कर भक्तों ने राम कृपा सहित घर में सुख-समृद्धि का आशीर्वाद मांगा। पूर्व राम सेवा सम्मान प्राप्त अनिल अग्रवाल ने राम नाम परिक्रमा की महिमा का गुणगान किया। सबसे छोटी पांच वर्षीय राम भक्त बालिका कृति ने चौपार्इ एवं दोहों के माध्यम से भगवान राम नाम की महिमा का बखान कर लोगों का आश्चर्यचकित कर दिया। कार्यक्रम को सफल बनाने में आनन्द जायसवाल, जितेन्द्र नारायण, ओम प्रकाश दार्शनिक, उषा, विपलु, आशीष आदि का विशेष योगदान रहा।

 

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

Astrology

Who's Online

We have 1178 guests online
 

Visits Counter

751152 since 1st march 2012