Saturday, November 25, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

rang

जिस तरह गरबा के बिना नवरात्र अधूरा होता है ठीक उसी तरह रंगोली के बिना दिपावली अधूरी होती है। प्रायः प्रत्येक घर के सामने दीवाली के दिन रंग बिरंगी रंगोली देखने को मिलती है। रंगोली घर की सुंदरता को बढ़ाती है। रंगोली को शुभ माना जाता है। आजकल लोग छोटे छोटे फ्लैटों में रहते हैं इसीलिए मुख्य द्वार के बाहर ही रंगोली बना सकते हैं। पहले जब लोग बड़े बड़े घरों में रहते थे, या आज भी जो बड़े बड़े घरों में रहते हैं वह आंगन, बराम्दा या छत पर रंगोली के बड़े बड़े भव्य डिजायन बनाते हैं। रंगोली बहुत ही पुरानी भारतीय परंपरा है। जिसे हमारे पूर्वज बड़ी ही निष्ठा के साथ निभाते आ रहे हैं। दिवाली में भी रंगों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। लोग घरों का रंग रोगन कराते हैं, रंग बिरंगे सजावटी सामान और फूलों से घर को सजाते हैं, रंग बिरंगे कपड़े खरीदते हैं। आजकल रंग बिरंगे झालर और मोमबत्ती तथा दीयों से घर को सजाते हैं। लेकिन रंगोली के रंगों का स्थान सबसे ऊपर होता है। रंगोली को आलपोना, कोलम या आरीपोमा भी कहते हैं। रंगोली के डिजायन एक पीढ़ी दूसरे पीढ़ी को सिखाती है।
रंगोली के डिजायन और रंग प्रान्त, परंपरा और लोगों के संस्कृति के अनुसार बदल जाते हैं। रंगोली दो शब्दों रंग और आवली से बना है। इसका अर्थ है रंगों की रेखा। रंगोली रंगे चावल के पाउडर और फूलों की पंखुडि़यों से बनता है।
दिवाली की रंगोली बनाने के लिए रंगीन चावल का पाउडर, फूलों की पंखुड़ी, हल्दी पाउडर और सिंदूर का प्रयोग होता है। रंगोली के डिजायन में हिंदू देव देवियों के चेहरे, ज्यामितीय आकृतियां,रेखाएं, डाॅट डिजायन, गोल फ्लोरल डिजायन और पिकाॅक डिजायन बनाए जाते हैं। रंगोली महिलाएं ही बनाती हैं। दिपावली के दिन तो उनका उत्साह देखने लायक होता है।दीपावली के दिन धन और समृद्धि की देवी लक्ष्मी का स्वागत करने के लिए मुख्य द्वार पर बहुत ही सुंदर रंगोली बनाती हैं।
बड़े बड़े घरों में खुली जगह पर जब रंगोली बनाई जाती है तो अक्सर देखा जाता है की फूलों की पंखुडि़यों से बनाई गई है। दीवाली पर रंगोली की फ्लोरल डिजायन ज्यादातर देखने को मिलती है क्योंकि यह डिजायन त्यौहार का गर्मजोशी से स्वागत करती दिखती है। दिवाली पर बनाए जाने वाले रंगोली का बैकग्राउंड गहरे रंग का होना चाहिए, उस पर बीच में चटकदार रंगों से बनाई गई डिजायन आपके घर आने वाले मेहमानों को बहुत भाएगी। रंगोली में अनेक रंगों का प्रयोग होता है और रेखाएं पतली होती हैं। दिवाली के अवसर पर लोग रंगोली पर दीया जलाते हैं और पूरा वातावरण दिपावली के रंग में रंग जाता है।
दिपावली पर बनाई जाने वाली रंगोली का रंग चटकदार होना चाहिए पर डिजायन सादा। इस दिवाली पर रंगोली में मैजेन्टा, नीला और गुलाबी रंग का प्रयोग करके देखें। एक बड़ा दीया रंगोली के बीच में रखें और आपकी रंगोली में जितने कोने हैं उतने छोटे दीये जलाएं। लोग आपकी तारीफ करते नहीं थकेंगे और आपके घरवाले सोचेंगे कि घर में जलने वाले झालरों से यह ज्यादा सुंदर है। हो सकता है आप रंगोली नई नई बना रही हों तो आप एक आसान सा डिजायन चुनें और रंगोली बनाने के पश्चात उस पर दीये जलाएं जैसा नीचे चित्र में है।

rangoli

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

culture

Who's Online

We have 2869 guests online
 

Visits Counter

751046 since 1st march 2012