Friday, November 17, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

 

 

 

 

IMGA0227
महाकुंभ के इस पावन पर्व माघी पूर्णिमा पर रात्रि से ही श्रद्धालुओं की भीड़ आती रही और अद्र्धरात्रि के बाद से स्नान शुरू हुआ जो पूर्णिमा के दिन शाम तक अनवरत चलता रहा। माघी पूर्णिमा पर लगभग 1 करोड़ श्रद्धालुओं ने संगम में डुबकी लगाई।
आयुक्त इलाहाबाद मण्डल इलाहाबाद श्री देवेश चतुर्वेदी ने माघी पूर्णिमा का स्नान सकुशल सम्पन्न हो जाने पर अपरान्ह राष्ट्रीय मीडिया सेंटर में आयोजित प्रेस वार्ता में बताया कि यह स्नान स्नानार्थियों की संख्या के मामले में मौनी अमावस्या के बाद का बड़ा स्नान रहा। इस स्नान में अपरान्ह 03:00 बजे तक लगभग 92 लाख स्नानार्थियों ने स्नान कर लिया था। चूंकि स्नान लगातार चल रहा है और भीड़ भी लगातार आ रही है जिसे दृषिटगत रखते हुए शाम तक 1 करोड़ से अधिक स्नान करने की उम्मीद है। आयुक्त ने बताया कि स्नानार्थियों को सकुशल स्नान कराने एवं अपने गन्तव्य तक वापस जाने हेतु मेला प्रशासन द्वारा व्यवसिथत ढंग से इंतजाम किये गये। हर क्षेत्र में सुरक्षा बलों के साथ मजिस्ट्रेट भी तैनात रहे। उन्होंने कहा कि कल्पवासियों की वापसी प्रारम्भ हो गयी है जिसके मददेनज़र रेलवे स्टेशनों एवं बस स्टेशनों पर दबाव बढ़ गया है इसके लिए पूर्व से ही व्यवस्था कर ली गयी थी और दबाव कम कराने एवं स्नानार्थियों को सुरक्षित सकुशल उनके गन्तव्य तक पहुंचने हेतु सुरक्षा बल और मजिस्ट्रेट तैनात किये गये है। उन्होंने बताया कि सुरक्षा बल और मजिस्ट्रेट तत्पर होकर अपनी डयूटी पर लगे है। आयुक्त ने बताया कि उनके द्वारा लगातार रेलवे स्टेशन, बस अडडों पर आने जाने वाले बसों, रेलवे स्टेशनों से रवाना होने वाली गाडि़यों एवं भीड़ की जानकारी ली जाती रही है। मैं स्वयं भ्रमण कर सिथति का जायजा ले रहा हूँ।

आयुक्त श्री देवेश चतुर्वेदी ने बताया कि मेले के हर क्षेत्र में संबंधित विभागों द्वारा अच्छी व्यवस्था की गयी थी। कुंभ में आने वाले स्नानार्थियों श्रद्धालुओं कल्पवासियों को किसी प्रकार की समस्या नहीं आने दी गयी। उन्होंने बताया कि यह स्नान अभी जारी रहेगा जबकि इस स्नान के बाद कल्पवासियों की वापसी शुरू हो गयी है। उन्होंने कहा कि मेले में लोक निर्माण विभाग, विधुत विभाग, जल निगम, चिकित्सा विभाग सहित अन्य विभागों ने काफी सामान लगाकर मेले की व्यवस्था की थी। जब सेक्टरों में लोग नहीं रहेंगे तो संबंधित विभागों के स्ट्रीट लाइट, खम्भे, तार, पाइप लाइन, नल, चकर्ड प्लेटें आदि तमाम वस्तुओं की जरूरत नहीं होगी और खाली रहने पर उनकी चोरी होने की भी संभावना रहेगी ऐसी सिथति में प्रत्येक विभागों को निर्देश दिये गये है कि वे अपनी-अपनी स्थाई वस्तुओं को सुरक्षित ढंग से खाली हुए, मेला क्षेत्र से हटा लें और उसको सही ढंग से जहां रखना हो वहां रखें। यदि दूसरे जिले को स्थानांतरित होना हो तो सुरक्षित ढंग से उसे स्थानांतरित करें। सरकारी संपतितयों का नुकसान न होने पाये इस पर संबंधित विभाग विशेष ध्यान दें। आयुक्त ने बताया कि खोया-पाया विभाग से अब तक लगभग ढाई लाख लोगों को मिलवाया गया है।

 

 

 

 

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

Magh Mela 2014

Who's Online

We have 2527 guests online
 

Visits Counter

748452 since 1st march 2012