Tuesday, November 21, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

accounting sector

एकाउंटिंग सेक्टर में तरक्की की सीढ़ियां चढ़नी हैं, तो इस फील्ड की बारीकियों के साथ-साथ स्मार्ट टेक्नोलॉजी से अपडेट होना पड़ेगा। सक्सेस के लिए और किन-किन टूल्स की होती है जरूरत, यहाँ बता रहे हैं -

माइंड को रखें शॉर्प

        एकाउंटिंग के काम में कैलकुलेशन की जरा सी गलती से बहुत नुकसान हो सकता है। ऐसे में एकाउंटिंग का काम करने वालों को अपना माइंड शॉर्प रखना जरूरी होता है। बैंकिंग, एकाउंटिंग, टैक्सेशन से जुड़े नियमों-कानूनों के साथ-साथ ऑनलाइन एकाउंटिंग की जानकारी इस फील्ड में सक्सेज का फंडा है।

अनुपम एस, डायरेक्टर, आईसीए, पूसा रोड, दिल्ली

        मनोज को बचपन से बैंक और वहां नोटों का लेन-देन बड़ा लुभाता रहा है। उसके पापा जब भी बैंक जाते, तो वह उनकी अंगुली पकड़ कर तैयार हो जाता। जब उसके पापा कैशियर से रुपये लेते, तो खुश होकर देखता। जब तक वह बड़ा हुआ, बैंकों का कामकाज बढ़ने के साथ उसमें टेक्नोलॉजी का दखल बढ़ गया। तब भी जगह-जगह लगी एटीएम मशीनों से निकलते रुपये उसे आकर्षित करते। एक तरह से उसे बैंकिंग से जुड़े कामों को लेकर अफेक्शन हो गया था। उसने बीकॉम के बाद एक बिजनेस स्कूल से फाइनेंस में एमबीए किया। चूंकि बीकॉम और एमबीए में उसे ऑनलाइन बैंकिंग और टैक्सेशन का पता नहीं चल पाया था, इसलिए इसमें पारंगत होने के लिए उसने साथ-साथ कम्प्यूटर एकाउंटेंसी का छह महीने का कोर्स भी कर लिया। इससे उसने टैली ईआरपी, एक्सबीआरएल, शेयर ट्रेडिंग, ऑनलाइन बैंकिंग और टैक्सेशन में महारत हासिल कर ली। इसके बाद उसके डीप थ्योरेटिकल और प्रैक्टिकल नॉलेज को देखते हुए उसका सलेक्शन निजी सेक्टर के एक बड़े बैंक में असिस्टेंट मैनेजर की पोस्ट पर हो गया। राकेश सिर्फ 12वीं तक ही पढ़ सका था। उसे कोई ढंग की जॉब नहीं मिल रही थी। कम्प्यूटर में उसकी रुचि थी और वह कोई जॉब ओरिएंटेड टेक्निकल कोर्स करना चाहता था। एक दिन उसे किसी ने ऑनलाइन बैंकिंग और टैक्सेशन से जुड़ा कोर्स करने की सलाह दी। इस सुझाव को मानते हुए उसने एक प्रतिष्ठित संस्थान में दो दिन ट्रायल क्लास लिया। एकाउंटिंग का सारा काम कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर्स के जरिये स्पीड और एकुरेसी से होते देख उसे मजा आ गया। उसे लगा कि यह तो उसके मन का काम है। उसने ऑनलाइन एकाउंटेंसी कोर्स में एडमिशन ले लिया। कॉमर्स, बैंकिंग, एकाउंटिंग और टैक्सेशन से जुड़ी सभी बारीकियां उसने तीन महीने में ही सीख लीं। साथ ही, एकाउंटिंग सॉफ्टवेयर्स की भी जमकर प्रैक्टिस की। छह महीने में ही वह एकाउंटिंग और टैक्सेशन का एक्सपर्ट बन गया। एक बड़ी कंपनी जब संस्थान में आकर प्लेसमेंट के लिए टेस्ट ले रही थी, तो उसके रिप्रेजेंटेटिव राकेश की स्पीड और एकुरेसी से बेहद प्रभावित हुए। उन्होंने उसे कंपनी में एकाउंटेंट के रूप में ज्वॉइन करने का ऑफर लेटर दे दिया।

बैंकिंग-एकाउंटिंग की जरूरत

        आज के समय में बैंकों से लेन-देन रखना हर किसी की जरूरत बन गया है। ऐसे में पब्लिक सेक्टर बैंकों के साथ-साथ प्राइवेट सेक्टर्स के बैंकों का काम भी तेजी से बढ़ रहा है। बड़ी कंपनियों के साथ छोटी कंपनियों को भी अपने एकाउंट को ऑपरेट करने और रोजमर्रा के लेन-देन के लिए ऑनलाइन एकाउंटिंग का सहारा लेना होता है। इसके लिए बैंकों, कंपनियों, शॉप कीपर्स, टैक्स पेयर्स, आईटीआर फाइल करने जैसे सभी कामों के लिए ऑनलाइन बैंकिंग के एक्सपर्ट्स की मांग हाल के वर्षो में तेजी से बढ़ी है।

रास्ते हैं कई

        बैंकिंग और फाइनेंस में इंट्रेस्ट रखने वाले युवाओं के लिए इस फील्ड में एंट्री करने के कई रास्ते हैं। अगर पब्लिक सेक्टर के बैंकों में प्रोबेशनरी ऑफिसर या क्लर्क बनना चाहते हैं, तो आईबीपीएस और एसबीआई द्वारा लिए जाने वाले कॉम्पिटिटिव एग्जाम को क्लियर करना होगा। अगर प्राइवेट सेक्टर के बैंकों से जुड़ना चाहते हैं, तो बीकॉम या सिंपल ग्रेजुएशन के बाद फाइनेंस में पीजीडीएम या एमबीए करके उनके यहां अप्लाई कर सकते हैं। इसके अलावा, सीए यानी चार्टर्ड एकाउटेंड बनने का भी चांस है। इसके लिए 12वीं के बाद सीपीटी पास करना होगा।

कम्प्यूटर एकाउंटेंसी

        अगर आप कॉमर्स की पढ़ाई नहीं कर पाते, फिर भी इस फील्ड में करियर बनाना चाहते हैं, तो चिंता न करें। किसी भी स्ट्रीम से 12वीं पास युवा किसी अच्छे संस्थान से कम्प्यूटर एकाउंटेंसी का कोर्स करके एकाउंटेंसी, बैंकिंग और टैक्सेशन के एक्सपर्ट बनकर अच्छे पैकेज पर जॉब हासिल कर सकते हैं। लेकिन इसके लिए इस सेक्टर की बुनियादी बातें समझते हुए बदलते नियमों-कानूनों से भी अपडेट रहना होगा, तभी आप इस करियर में कामयाबी के साथ लगातार आगे बढ़ सकते हैं।

साभार: दैनिक जागरण

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

youth corner

Who's Online

We have 2546 guests online
 

Visits Counter

749687 since 1st march 2012