Friday, November 24, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

marketing attitude

        ज्यादातर लोग मेहनत को कामयाबी का मूलमंत्र मानते हैं। यह सही भी है, क्योंकि कड़ी मेहनत और मशक्कत के बाद ही किसी फील्ड में कामयाबी की उम्मीद की जा सकती है। लेकिन एर्क्‍सपट्स कहते हैं कि बिना उद्देश्य और राइट एटीट्यूड से की गई मेहनत अक्सर व्यर्थ जाती है।

        बहरहाल, यदि आप मार्केटिंग जॉब में हैं, तो यह ऐसा क्षेत्र है, जहां आपको मेहनत के साथ-साथ राइट एटीट्यूड और पॉजिटिव माइंडसेट के तहत काम करना होगा। मार्केटिं ग प्रोफेशनल्स के रूप में आप पर कंपनी की साख को बढ़ाने और उसे कायम रखने की अहम जिम्मेदारी होती है।

हालांकि मार्केटिंग फील्ड में आज ऐसे लोगों की कमी नहीं है, जो दिन-रात अपने निर्धारित टारगेट को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत तो करते हैं लेकिन अपने वास्तविक टारगेट को पूरा करने में उनसे अक्सर चूक हो जाती है। आपकी हमेशा कोशिश रहनी चाहिए टारगेट को अचीव करने की।

        दिलचस्प बात तो यह है कि ऐसे मार्केटिंग प्रोफेशनल्स अपनी नाकामी को बड़ी आसानी से यह कहकर टाल जाते हैं कि हमारे पास वे स्किल्स हैं ही नहीं, जिनसे प्रभावित होकर हमारे क्लाइंट्स प्रभावित हो सकें या मुझमें इतनी हिम्मत ही नहीं कि अमुक व्यक्ति की तरह मार्केटिंग कर सकूं। दरअसल, इस एटीट्यूड के साथ मार्केटिंग की जॉब न केवल मुश्किल हो सकती है, बल्कि आप इसमें कभी भी सफलता की उम्मीद नहीं कर सकते। या यूं कहें कि यह अप्रोच ही है, जो आपको राइट मार्केटिंग एटीट्यूड से दूर कर देता है। वहीं, यदि आप मार्केटिंग की जॉब में पॉजिटिव एटीट्यूड यानी आत्मविश्वास और उत्साह अपने क्लाइंट की बातों में रुचि प्रदर्शित करते हैं तो निस्संदेह इससे आपको आश्र्चयजनक परिणाम मिल सकते हैं।

जॉब को बनाएं पैशन

        जॉब कोई भी हो, यदि आप उसे पूरे पैशन से करते हैं, तो कामयाबी जरूर मिलती है। जहां तक मार्केटिंग जॉब की बात है तो यह जॉब आपसे शत-प्रतिशत पैशन की मांग करती है क्योंकि पैशन से ही आपके वास्तविक वर्कस्टाइल के बारे में पता चलता है।

निगेटिव एप्रोच से रहें दूर

        कहा भी गया है कि हम जैसा सोचते हैं, हमारे काम में वही सोच परिलक्षित होती है। अब आप यदि निगेटिव सोचेंगे तो न तो आप अपनी जॉब में रुचि ले पाएंगे और न ही आपका टारगेट ही पूरा हो सकेगा।

दिखाएं उत्साह

        याद रखें, किसी काम की कामयाबी में उत्साह का सबसे ज्यादा योगदान होता है। वैसे आपने भी अनुभव किया होगा कि जो लोग उत्साहित होते हैं, वे दूसरों में भी उत्साह का संचार करते हैं। इसलिए मार्केटिंग फील्ड में होने के कारण आप में उत्साह होना बहुत जरूरी है, जिससे आपके क्लाइंट आपके प्रोडक्ट्स में दिलचस्पी ले सकें और उनसे आपको सही फीडबैक मिल सकें।

आत्मविश्वास है कुंजी

        आपको हर हाल में न केवल खुद पर बल्कि अपने क्लाइंट पर भी पूरा भरोसा होना चाहिए। याद रहे, यह आत्मविश्वास ही है जिसे सफलता की कुंजी कहा जाता है।

चेंज के लिए रहें तैयार

        मार्केटिंग ऐसा फील्ड है, जहां हमेशा चेंज की गुंजाइश बनी रहती है क्योंकि यहां आपका पहला मकसद होता है क्लाइंट को संतुष्ट करना और ज्यादा से ज्यादा क्लाइंट्स जोड़ना। इसलिए जब भी लगे कि अमुक तकनीक में बदलाव की जरूरत है, आपको तत्काल उस तकनीक को अपना लेना चाहिए।

साभार: राष्ट्रीय सहारा

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

youth corner

Who's Online

We have 2280 guests online
 

Visits Counter

750774 since 1st march 2012