Tuesday, November 21, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

youth

आसपास के माहौल और मौजूदा परिवेश के साथ जो व्यक्ति बेहतर तालमेल बिठाकर चलता है, वह अपनी जानकारी को लगातार अपडेट करता रहता है। सफलता उन्हीं के कदम चूमती है यानी सफलता उन्हीं को मिलती है, जो सीखने की प्रक्रिया में अनवरत दिलचस्पी लेते हैं। इसलिए जरूरत है समय का सदुपयोग करने और उसमें निवेश करने की।

चंद बातें ऐसी हैं जिन्हें हर किसी को अमल में लाना चाहिए-

        वर्तमान समय अवसरों से भरपूर है। आज के नॉलेज ऐज में लोगों को कमाई के लिए शारीरिक श्रम करने की जरूरत नहीं है, बल्कि वे अपनी योग्यता और मानसिक क्षमताओं के बल पर पैसा कमाते हैं इसलिए यहां केवल वही कामयाबी की सीढ़ियां चढ़ते हैं जो सीखने की प्रक्रिया में अनवरत रुचि लेते हैं। इसलिए जरूरी है अपने आसपास के वातावरण के साथ तालमेल बिठाने की, अपनी जानकारी को लगातार अपडेट करने की। जरूरत है कुछ न कुछ हर दिन कुछ नया सीखने और सिखाने की।

        खुद को जितना संभव हो, योग्य और शिक्षित बनाने की कोशिश करें। इसका मतलब केवल किताबी ज्ञान प्राप्त करना नहीं है और न ही इसका अर्थ केवल पाठ्यक्रम में शामिल किताबों को पढ़ना है बल्कि व्यावहारिक ज्ञान भी जरूर हासिल करें। यह जानने और समझने की कोशिश करें कि फिलवक्त क्या कुछ दुनिया में चल रहा है। क्या कुछ और बेहतर किया जा सकता है। इसका शॉर्टकट फॉमरूला नहीं आप अपनी जानकारियों के दायरे को बढ़ाएं। वे लोग जो कड़ी मेहनत करते हैं, वही कामयाबी की राह तय कर पाते हैं। यह बहुत हद तक अपने आप पर निर्भर करता है कि आप खुद में सुधार लाने की कितनी कोशिश करते हैं।

        स्नातक स्तर की पढ़ाई करने वाले छात्र की उम्र 18 से 21 साल के बीच होती है। यह जीवन का सबसे महत्वपूर्ण समय है। कल्पना कीजिए, यदि यह बर्बाद हो गया तो क्या होगा! आपके पास पर्याप्त समय है। ऐसे में, आपको क्या करना चाहिए यह सोचें-विचारें। यह देखें कि आज के समय के मुताबिक कौन सा रोजगारपरक कोर्स आपके लिए सही रहेगा या कौन सा व्यवसाय चुनें जिसमें आपकी कामयाबी संभव है।

        दिनचर्या का पालन करें। 8 घंटे की नींद लें और सही समय पर उठें। इस तरह आप अपने स्वास्थ्य में निवेश करेंगे। नियमित व्यायाम करें। खाली समय में कम्प्यूटर, ग्राफिक्स, आर्ट एंड क्राफ्ट या नृत्य से जुड़े कोर्स कर सकते हैं।

        अखबार पढ़ना अपनी आदत में शुमार करें। इसके अलावा, शोधपरक जानकारी हासिल करने के लिए ज्ञानवर्धक चैनल देखने के लिए समय निकालें। जब भी मौका मिले, किसी पर्यटन स्थल पर घूमने आएं। इतिहास और भूगोल को समझने की कोशिश करें। सिर्फ किताबी कीड़ा न बनें।

        अपना समय बर्बाद न करें, क्योंकि बीता हुआ समय कभी लौटकर नहीं आता। अपने खाली समय का पूरी तरह से सदुपयोग करें, जिससे आप खुद को बेहतर, अधिक सक्षम और स्वस्थ व्यक्ति बनाने की कोशिश करें। रुपये-पैसे, धन- संपत्ति सब आती जाती रहती है, लेकिन खुद में किया हुआ निवेश कभी बेकार नहीं जाता है। यह जिंदगी में सदा आपके साथ मजबूत सहारे के साथ रहता है।

        जिंदगी में अवसर छोटा हो या बड़ा आप अपना प्रदर्शन बेहतर बनाए रखें। अगर ऐसा नियमित रूप से करते रहेंगे तो इससे आपको निश्चित रूप से कामयाबी की सीढ़ियां चढ़ेंगे। इसलिए अपने आत्मविश्वास, स्पष्टता, दृढ़ता, सकारात्मकता, संतुलन, धैर्य, गति, विश्वसनीयता, रचनात्मकता और ईमानदारी को न छोड़ें।

साभार: राष्ट्रीय सहारा

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

youth corner

Who's Online

We have 2850 guests online
 

Visits Counter

749687 since 1st march 2012