Friday, November 24, 2017
User Rating: / 0
PoorBest 

national workshop

आंचलिक विज्ञान नगरी, लखनऊ, मित्रा आइएपीटी अनवेषिका लखनऊ एवं शिक्षा सोपान, आर्इआर्इटी कानपुर द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित तीन दिवसीय (7-9 जून, 2013) ''भौतिकी में नवाचार पर राष्ट्रीय कार्यशाला का उदघाटन आज आंचलिक विज्ञान नगरी में प्रो0 अभिषेक मिश्रा, माननीय मंत्री, विज्ञान एवं प्रोधोगिकी, उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किया गया। आर्इआर्इटी कानपुर के प्रो0 एच0सी0वर्मा ने उदघाटन समारोह की अध्यक्षता की तथा उन्होंने समारोह में मुख्य वक्तव्य भी प्रस्तुत किया।

अपने सम्बोधन में प्रो0 वर्मा ने भारतीय इतिहास में विज्ञान के पहलुओं का वर्णन किया। उन्होंने भारतीय नाभिकीय तथा अंतरिक्ष विज्ञान में हुए विकास पर भी प्रकाश डाला। उन्होंने विशेषतया विज्ञान एवं तकनीकी के क्षेत्र से लोगों के जुड़ने की आवश्यकता पर जोर दिया जोकि प्रबन्धन और कला जैसे क्षेत्रों के समान ही महत्वपूर्ण हैं।

अपने उदघाटन सम्बोधन में माननीय मंत्रीजी ने हमारी वैज्ञानिक धरोहर के बारे में यह बताते हुए चर्चा की कि पूरे विश्व में ऐसा कुछ भी नहीं है जिसका आधार विज्ञान पर न हो। माननीय मंत्री जी ने कहा कि विज्ञान एवं तकनीकी के विभिन्न क्षेत्रों के मध्य कैरियर में असमानताएँ हैं जिसे हमें ठीक करने की आवश्यकता है। उन्होंने आगे कहा कि विज्ञान के क्षेत्र में विधार्थियों की घटती रूचि को बढ़ावा देने के लिए सरकार एवं इस क्षेत्र में कार्यरत संस्थाओं को मिलकर कदम बढ़ाने होगें। अंत में उन्होंने कहा कि यधपि हमने बहुत विकास किया है फिर भी हमें मीलों और जाना है।

कार्यशाला का मुख्य उददेश्य विभिन्न अनवेषिका समन्वयकों द्वारा विकसित किए गये भौतिकी में कम लागत वाले नवाचार आविष्कारों को प्रदर्शित करना है। इस प्रकार के आविष्कारों एवं अनुभवों के आदान-प्रदान से विधालयों एवं कालेजों में विज्ञान को पढ़ाना और अधिक प्रभावशाली, रूचिकर तथा आनंदित होगा। आंचलिक विज्ञान नगरी, लखनऊ में आयोजित हो रहे इस कार्यशाला में करीब 70 शिक्षक, विधार्थी एवं अनवेषिका समन्वयक भाग ले रहे हैं।

Add comment

We welcome comments. No Jokes Please !

Security code
Refresh

youth corner

Who's Online

We have 1482 guests online
 

Visits Counter

750773 since 1st march 2012